फैक्ट फाइल

- वार्ड की जनसंख्या- 7000

- वार्ड में कुल वोटर - 2026

- विधानसभा क्षेत्र- रायपुर ग्रामीण

रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

बिरगांव नगर निगम में रहने वाले लोगों को मूलभूत सुविधाएं तक नहीं मिल पा रही हैं। वार्डवासी गर्मी में पानी की किल्लत से जूझते रहे। अब बरसात में कच्ची सड़क की समस्या से जूझ रहे हैं। पानी गिरने पर सड़क नाली का रूप ले लेती है। बिरगांव नगर निगम के मां शीतला वार्ड क्रमांक 16 की स्थिति बदतर है। वार्ड में ज्यादातर कॉलोनियों से होकर जाने वाली सड़कें कच्ची हैं, जिनमें जगह-जगह गड्ढे हैं। थोड़ी सी भी बारिश होने पर इनमें पानी भर जाता है। इन पर बाइक चलाना तो दूर पैदल चलना भी मुश्किल है। लोगों को संभलकर चलना पड़ता है। कीचड़ के कारण फिसलन हो जाती है। वार्डवासियों का कहना है कि कई बार सड़क बनाने की मांग की गई, लेकिन अब तक नहीं बन पाई है।

राजधानी से महज 10 किलोमीटर दूर बिरगांव नगर निगम को अस्तित्व में आए चार साल हो गए हैं, लेकिन विकास की गति अभी तक रफ्तार नहीं पकड़ सकी है। नईदुनिया की टीम ने बुधवार को यहां के मां शीतला माता वार्ड की अवधपुरी कॉलोनी पहुंची। यह कॉलोनी उरकुरा रेलवे स्टेशन जाने वाली रोड से करीब 800 मीटर अंदर बसी है। इस कॉलोनी में अभी तक पक्की सड़क नहीं बन पाई है। निगम ने घरों के सामने नालियां तो बनवा दी है, लेकिन उसकी सफाई के लिए कर्मचारी नहीं जाते हैं। नालियां गंदगी से भर गई हैं। बारिश होते ही नाली का गंदा पानी सड़क पर आ जाता है। ऐसे में लोगों का घरों से निकलना दूभर हो जाता है। सड़क पर पानी भरने से बच्चों को भी स्कूल आने-जाने में काफी दिक्कत होती है। वार्ड वासियों का कहना है कि कई बार निगम के अधिकारियों को लिखित में आवेदन दिया, लेकिन इस पर अभी तक कोई सुनवाई नहीं हुई है।

रोड के लिए बनाया स्टीमेंट, नहीं मिली स्वीकृति

उरकुरा स्टेशन रोड बंजारी मंदिर को जोड़ने वाली रोड पर ट्रक, ट्रैक्टर, ट्रेलर और कारों का चौबीसों घंटे आवागमन है। क्योंकि इस रोड से सटकर कई कंपनियां संचालित हैं। इस रोड से करीब उरकुरा के चार वार्डों को मिलाकर करीब 30 हजार लोगों का आवगमन है। इस रोड को पक्की करने के लिए पार्षद ने 54 लाख रुपये का स्टीमेट बनाकर शासन को सौंपा था, लेकिन अभी तक इसकी स्वीकृति नहीं हो सकी। निगम प्रशासन इस तरफ ध्यान नहीं दे रहा है। स्थानीय पार्षद का कहना है कि निगम के अधिकारी सिर्फ प्रस्ताव बनाकर भेजने की बात करते हैं। अधिकारियों की उदासीनता के चलते वार्ड में ऐसी स्थिति निर्मित हो गई है।

कच्ची सड़क पर चलने को मजबूर

बिरगांव नगर निगम के वार्ड क्रमांक 16 में कई ऐसे मोहल्ले हैं, जहां आज भी पक्की सड़क नहीं है। इन मोहल्लों के निवासी कच्ची व उबड़-खाबड़ रोड से ही आते-जाते हैं। बारिश होने पर कच्ची सड़क की हालत बदतर हो जाती है, जिससे लोग परेशान हैं। वार्डवासियों ने पार्षद के साथ अधिकारियों तक से सड़क की मांग कर चुके हैं, लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ है।

वार्ड में पसरी है गंदगी

वार्ड में जगह-जगह गंदगी के ढेर हैं। नालियां गंदगी से अटी पड़ी हैं। पानी गिरने पर नालियों का गंदा पानी ओवरफ्लो होकर सड़कों पर भर रहा है। यह वार्ड शासन की तमाम योजनाओं की हकीकत बयां करने के लिए काफी है। जलभराव के कारण मच्छर पनप रहे हैं। इलाके में संक्रमण का खतरा भी बना रहता है।

गर्मी में खरीदकर पीते हैं पानी

गर्मी शुरू होते ही पानी की किल्लत शुरू हो जाती है। इस वार्ड में अभी तक पानी के लिए पाइप लाइन नहीं पहुंची है। लोग बोर से पानी भरते हैं। गर्मी में बोर के सूख जाने के कारण लोगों को पीने के लिए पानी खरीदना पड़ता है। कपड़े और बर्तन धोने के लिए बंजारी मंदिर के पास से पानी लाना पड़ता है। पानी की समस्या का निराकरण करने के लिए कई बार बिरगांव नगर निगम के अधिकारियों से शिकायत की गई, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो सका है।

जानिए क्या कहते हैं वार्डवासी

- अवधपुरी कॉलोनी को बसे 10 साल हो गए हैं। इस कॉलोनी में अभी तक न तो रोड बनी और न ही पानी के लिए पाइप लाइन बिछाई गई है। बरसात में घरों से निकलना दूभर हो जाता है। लोग किसी तरह जीवन यापन कर रहे हैं। - धनंजय दुबे

--

सभी के लिए सबसे ज्यादा जरूरी पानी है। इस कॉलोनी में मार्च के प्रारंभ में ही पानी की किल्लत शुरू हो जाती है। बोर मार्च में ही सूख जाते हैं। गर्मी में पीने के लिए पानी खरीदना पड़ता है। घरेलू काम के लिए बंजारी मंदिर के पास से पानी लाना पड़ता है। वार्डवासी किसी समस्याओं को बीच जीवन जीने के मजबूर हैं। -एस के द्विवेदी

---

- बारिश शुरू होते ही सड़कों पर पानी भर जाता है। इससे घर से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है। बारिश के मौसम में मोहल्ले की स्थिति बदतर हो जाती है। नालियों की गंदगी सड़कों पर फैल जाती है, जहां से गुजरना मुश्किल होता है। - उषा द्विवेदी

---

- पानी इकट्ठा होने की वजह से गंदगी का अंबार लगा रहता है। हल्की सी बारिश होने पर सड़क पर पानी भर जाता है। बच्चों को स्कूल जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बरसात के मौसम में लोगों को अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।- पुष्पा सिंह

----

- उरकुरा स्टेशन रोड से होकर बंजारी माता मंदिर जाने वाली रोड से बड़ी-बड़ी गाड़ियां गुजरती हैं। पूरी बरसात में सड़क पर पानी और कीचड़ भरा रहता है। इस रोड से बच्चे स्कूल आते-जाते हैं। आए दिन लोग फिसलकर गिर रहे हैं। रोड पक्की न होने से किसी दिन बड़े हादसे से नकारा नहीं जा सकता।- कुशलेश्वर प्रसाद दुबे

- --

- मोहल्ले में नाली का निर्माण अभी तक नहीं हुआ है। बिजली के लटकते तार मौत को दावत दे रहे हैं। किसी तरह छत के ऊपर से गुजरने वाले तारों के पाइप से ऊपर किया गया है। कई बार इसके लिए गुहार लगाई गई, लेकिन कुछ नहीं हुआ।- भारती सेन

---

- निगम प्रशासन ने रोड किनारे खंभे तो लगा दिये, लेकिन खंभों में लाइट नहीं जलती। शाम होते ही घुप अंधेरा छा जाता है। घर के सामने बिजली तार लटक रहे हैं। ऐसा लग रहा है कि निगम प्रशासन हादसे का इंतजार कर रहा है। - यामिनी सेन

---

जानिए क्या कहते हैं वार्ड पार्षद

वार्ड क्रमांक सोलह के ज्यादातर मोहल्ले में पानी निकासी के लिए नाली का निर्माण नहीं किया गया है। घरों से निकलने वाले गंदे पानी की निकासी कच्ची नाली से की जा रही है। इस वार्ड के ज्यादातर वार्डों की सड़कें कच्ची हैं। सड़कों के लिए कई बार निगम में आवेदन दिया गया, लेकिन निगम प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। निगम के अधिकारी सिर्फ प्रस्ताव बनाकर देने की बात करते हैं।- कोमल वर्मा पार्षद, वार्ड क्रमांक सोलह, बिरगांव नगर निगम