रायपुर। अखिल भारतीय शतरंज महासंघ द्वारा देश के सभी राज्यों में राज्य स्तरीय शतरंज टूर्नामेंट का आयोजन कराकर देश भर में जमीनी स्तर पर शतरंज को लोकप्रिय बनाने द्रुतगति से कार्य किया जा रहा है।

अखिल भारतीय शतरंज महासंघ का मंसूबा है कि चेन्नई के महाबलीपुरम में होने जा रहा 44वां फीडे शतरंज ओलम्पियाड को देश भर के शतरंज खिलाड़ी देखे व जाने, ओलम्पियाड से प्रेरणा लें तथा ओलम्पियाड के आयोजन में शामिल होकर ग्रैंडमास्टरों से मिलने, फ़ोटो सेशन में शामिल होने, शतरंज प्रशिक्षण तथा साईमल टेनियस खेलने का सुनहरा अवसर को प्राप्त करें।

शतरंज को लोकप्रिय बनाने अखिल भारतीय शतरंज महासंघ की सार्थक पहल

छत्तीसगढ़ प्रदेश शतरंज संघ के संरक्षक गुरुचरण सिंह होरा व प्रदेश अध्यक्ष राघवेंद्र सिंघानिया जो कि ओलम्पियाड आयोजन समिति के सदस्य भी हैं ने संयुक्त रूप से जानकारी देते हुए बताया कि जून माह में हम अखिल भारतीय शतरंज महासंघ के निर्देशानुसार छत्तीसगढ़ में दो दिवसीय राज्य चयन शतरंज स्पर्धा राजनांदगांव में खिलाड़ियों के लिए निशुल्क कराने जा रहे है।

यह स्पर्धा पूरी तरह से निशुल्क रहेगी। उक्त आयोजन चेस इन स्कूल्स कार्यक्रम का एक हिस्सा है। स्पर्धा के दोनों कैटेगरी के विजेता व उपविजेता के अलावा स्पर्धा में शामिल सरकारी स्कूलों स एक-एक सर्वश्रेष्ठ बालक व बालिका यानी कुल 6 खिलाड़ियों का चयन ओलम्पियाड देखने के लिए किया जाएगा।

इस स्पर्धा में अंडर 15 आयु समूह के स्कूली बच्चे भाग ले सकेंगे जिसकी पैदाइश 1 जनवरी 2007 या इसके बाद कि हुई हो।भाग लेने वाले समस्त खिलाड़ियों का वर्ष 2022-23 के लिए ऑल इंडिया चेस फेडरेशन से पंजीयन आवश्यक है।

सभी चयनित खिलाड़ियों को तीन दिनों के लिए रुकने व उनके खाने का इंतजाम आयोजन समिति करेगी तथा प्रत्येक खिलाड़ियों को यात्रा भत्ता के रूप में दो-दो हजार रुपये प्रदान किये जायेंगे। श्री सिंघानिया ने स्कूली बच्चों से अपील की है कि अधिक से अधिक संख्या में टूर्नामेंट में खिलाड़ी शिरकत कर ओलम्पियाड का हिस्सा बने।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close