रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। सरकारी विभाग में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले आरोपित दंपत्ति को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। सात लाख रुपये की ठगी के मामले में आरोपित रोनी ब्रोम और उसकी पत्नी श्रेया ब्रोम को गिरफ्तार कर न्यायिक रिमांड में भेज दिया गया। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद से आरोपित लगातार फरार थे।

पुलिस को सूचना मिली कि आरोपित टिकरापारा थाना क्षेत्र में किराए के मकान में रह रहे हैं। साथ ही राजातालाब स्थित अपने मकान को बेचने ग्राहक की तलाश कर रहे हैं। सूचना मिलने पर मंगलवार सुबह पुलिस मकान खरीददार बनकर रोनी ब्रोम के पास पहुंची। जहां से उसे गिरफ्तार किया गया।

उल्लेखनीय है कि प्रार्थी अजय बाघे दोनों पति-पत्नी के खिलाफ सिविल लाइन थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। पुलिस ने दोनों पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था। बता दें कि सरकारी विभाग में नौकरी लगवाने के नाम पर राजधानी में एक बड़ा रैकेट चल रहा है। मंत्रालय से लेकर किसी भी सरकारी विभाग में पद निकलने के साथ ही ये सक्रिय हो जाते हैं। इनका रहन-सहन देखकर लोग इनसे प्रभावित हो जाते हैं। पैसे लेने के बाद एक नियत समय के बाद नियुक्ति की बात कही जाती है पर ऐसा नहीं होता तब लोग पुलिस के पास जाते हैं। कई प्रकरणों में तो पीड़ितों को फर्जी नियुक्ति पत्र तक पकड़ा दिए जाते हैं।

बिजली अधिकारी की शिकायत पर एफआइआर

विद्युत अधिकारी के द्वारा की गई शिकायत पर सिविल लाइन पुलिस ने दो अज्ञात लोगों के विरुद्ध अपराध दर्ज कर लिया है। कल देर रात अधिकारी ने पुलिस से शिकायत की थी कि उपभोक्ताओं को बिजली कटने के फर्जी संदेश भेजकर ठगी की जा रही है। अधिकारी ने पुलिस को ऐसे संदेश भेजने वाले दो मोबाइल नंबर भी दिए थे। हालांकि पुलिस ने जब इन नंबरों पर फोन किया तब वे बंद मिले। जांच के बाद आज पुलिस ने अपराध दर्ज कर लिया है।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close