रायपुर।नईदुनिया प्रतिनिधि

चोरी की करोड़ों की रेलवे पटरी खपाने के मामले में रायपुर के आधा दर्जन नामजद कारोबारियों को दबोचने पुलिस ने मुखबिरों को लगाया है। कारोबारियों की तलाश में पुलिस पिछले दिनों उनके फैक्टरी भी गई लेकिन कोई नहीं मिला। लापता कारोबारियों ने मोबाइल बंद कर रखे हैं, लिहाजा उनका पता नहीं मिल पा रहा है। कारोबारियों और उनके परिजनों के मोबाइल पुलिस ने सर्विलांस पर रखा है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि गिरफ्तारी के डर से कारोबारी घर और फैक्टरी से गायब है। उनके संभावित ठिकानों पर नजर रखने मुखबिरों को लगाया गया है। यहीं नहीं परिजनों पर सरेंडर करने दबाव बनाया गया है। फिलहाल गायब कारोबारियों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है। छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश समेत अन्य राज्यों से करोड़ों रुपये की रेलवे पटरी चोरी कर खपाने के मामले में मास्टरमाइंड विनोद मराठा जबलपुर जेल में बंद है। मराठा ने पूछताछ में मंदिर हसौद इलाके के नवागांव से 2 करोड़ 11 लाख रुपये कीमत का रेलवे पटरी चोरी कर रायपुर के इस्पात इंडिया सिलतरा, हिंदुस्तान क्वाइल प्रालि, देवी स्पंज आयरन सिलतरा, महामाया स्पंज, अग्रवाल स्ट्रक्चर, छत्तीसगढ़ फैरोट्रेड एल्युमिनियम प्रालि कंपनी समेत अन्य फैक्टरी में बेचने की जानकारी दी थी। इसके आधार पर मंदिर हसौद पुलिस फैक्टरी संचालक प्रदीप गोयल, नरेंद्र शर्मा, डीके गोयल, ज्ञानेश तायल समेत बोकर्स और कुछ मैनेजरों की तलाश कर रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network