रायपुर (राज्य ब्यूरो)। राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर नजर रखने के लिए सभी जिला पुलिस बल को ड्रोन से लैस करने की तैयारी है। इन ड्रोनों का उपयोग धरना-प्रदर्शन सहित विभिन्न् आंदोलनों और त्योहारी सीजन में बाजारों में होने वाली भीड़ के दौरान निगरानी के लिए किया जाएगा। इसके लिए पुलिस मुख्यालय ने 32 छोटे ड्रोन खरीदने के लिए प्रक्रिया शुरू कर दी है।

पुलिस अफसरों के अनुसार राज्य पुलिस को अत्याधुनिक संसाधनों से लैस करने की प्रक्रिया लगातार चल रही है। इसी कड़ी में ड्रोन उपलब्ध कराने की कोशिश की जा रही है। अफसरों के अनुसार कुछ ही जिलों में पुलिस के पास ड्रोन है। वहीं, कुछ जिलों में पुलिस जरुरत पड़ने पर निजी लोगों से मदद लेती है, लेकिन राज्य के कई जिले ऐसे हैं जहां निजी ड्रोन भी उपलब्ध नहीं है।

इसे देखते हुए सभी जिलों को कम से कम एक ड्रोन उपलब्ध कराने की कोशिश की जा रही है। जिला पुलिस बल को ड्रोन देने के साथ ही उसे चलाने का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा। पुलिस मुख्यालय के अफसरों के अनुसार ड्रोन खरीदने के लिए पहले भी टेंडर जारी किया गया था। इसमें टेंडर भी आए थे, लेकिन कोई भी पात्र नहीं था इस कारण टेंडर निरस्त करना पड़ा। अब फिर से टेंडर जारी किया गया है।

देशभर में पुलिस कर रही ड्रोन का उपयोग

पुलिस अफसरों के अनुसार लगभग सभी राज्यों में पुलिस ड्रोन का उपयोग कर रही है। विश्ोष रुप से भीड़-भाड़ के दौरान कानून-व्यवस्था को संभालने में ड्रोन कारगर साबित हो रहा है। पिछले महीने उत्तर प्रदेश के कई शहरों में हुए दंगों के दौरान भी वहां पुलिस ने पत्थरबाजी और उपद्रवियों को नियंत्रित करने में ड्रोन का उपयोग किया था।

नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में सफल है ड्रोन

राज्य पुलिस अभी नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में ड्रोन का उपयोग कर रही है। इससे पुलिस और केंद्रीय सुरक्ष बल के जवानों को काफी मदद मिल रही है। सूत्रों के अनुसार सर्चिंग के दौरान ड्रोन की वजह से आगे चल रही गतिविधियों की जानकारी फोर्स को पहले ही मिल जाती है। इससे उन्हें संभलने का मौका मिल जाता है। इसी कारण नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में घात लाकर होने वाले हमलों में कमी आई है।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close