रायपुर। Economic Survey: विधानसभा में शुक्रवार को पेश किए गए राज्य के आर्थिक सर्वेक्षण को लेकर सियासी बयानों के घोड़े दौड़ने लगे हैं। दोनों प्रमुख राजनीतिक दल अपने-अपने तरीके से इसकी व्याख्या कर रहे हैं। कांग्रेस ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए राज्य की वित्तीय स्थिति को बेहतर बताया है।

पार्टी ने इसका श्रेय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को देते हुए कहा है कि कोरोना महामारी और लाकडाउन के बावजूद छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था बेहतर है। वहीं, भाजपा ने महज दो साल में ही प्रदेश की आर्थिक हालत चौपट करने का आरोप लगाया है। भाजपा का आरोप है कि प्रदेश के अर्थतंत्र को मटियामेट कर दिया गया है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय ने कहा कि सकल घरेलू उत्पाद में वर्ष 2019-20 की तुलना में 1.77 फीसदी की गिरावट यह बताती है कि प्रदेश लगातार आर्थिक बदहाली की ओर जा रहा है। जीएसडीपी में गिरावट के साथ उद्योग क्षेत्र में 5.82 फीसदी की कमी आई है।

राज्य निर्माण के बाद से पिछले 20 वर्षों में छत्तीसगढ़ में प्रति व्यक्ति आय पहली बार घटी है। साय ने कहा कि कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में आज प्रदेश 60 हजार करोड़ रुपये के कर्ज के बोझ तले दबा है। प्रदेश सरकार का बजट लगभग एक लाख करोड़ रुपये का होने का अनुमान है।

इस नजरिये से आने वाले वर्षों में यह सरकार प्रदेश पर एक लाख करोड़ रुपये का कर्ज लाद देगी, यानि प्रदेश के बजट के बराबर ही प्रदेश पर कर्ज का बोझ रहेगा। साय ने कहा कि 20 वर्षों में पहली बार राज्य में प्रति व्यक्ति आय घटी है। इस सर्वेक्षण ने फिर से प्रदेश सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन का काला सच प्रदेश के सामने ला दिया है।

इधर प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार के फैसलों के कारण ही छत्तीसगढ़ देश से बेहतर स्थिति में है। डा. रमन सिंह सरकार के 15 साल में प्रशासन ने छत्तीसगढ़ को बदहाल ही किया।

भ्रष्टाचार और कमीशनखोरी के कारण 15 साल में छत्तीसगढ़ में गरीबों की संख्या गरीबी और कुपोषण की मात्रा बढ़ती ही रही। अब मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पुरखों के देखे सपनों के अनुरूप छत्तीसगढ़ गढ़ने और बनाने में लगे हैं। इसी का परिणाम है कि राज्य के सकल घरेलू उत्पाद बाजार मूल्य त्वरित अनुमान के अनुसार गत वर्ष 2018-19 की तुलना में वर्ष 2019-20 में 5.12 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

देश के प्रति व्यक्ति आय में 5.41 प्रतिशत की बड़ी गिरावट के मुकाबले छत्तीसगढ़ में प्रति व्यक्ति आय में गिरावट नहीं के बराबर मात्र 0.14 प्रतिशत है जो स्पष्ट करता है कि भूपेश बघेल सरकार की नीतियों के परिणाम स्वरूप छत्तीसगढ़ के लोग खुशहाल बने है।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close