रायपुर। बिजली संकट पर प्रदेश की राजनीतिक बेहद गरमाई हुई है। विपक्ष सरकार पर लगातार हमला कर रहा है। सरकार और कांग्रेस यह साबित करने में लगे हैं कि पॉवरकट नहीं किया जा रहा है, साजिश के तहत जानबूझकर बिजली बंद कराई जा रही है। इस साजिश के पीछे भाजपा और कमल फूल छाप अधिकारियों- कर्मचारियों का हाथ होने का दावा किया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ कांग्रेस अपने दावे को सही साबित करने के लिए सोशल मीडिया पर एक ऑडियो वायरल कर रही है, जिसे कथित तौर पर मध्यप्रदेश के अधिकारियों के बीच बातचीत का बताया जा रहा है। छत्तीसगढ़ में ऊर्जानगरी कोरबा से लेकर राज्य मुख्यालय के कई क्षेत्रों और प्रदेश के दूसरे इलाकों में बिजली गुल होना बड़ा मुद्दा बन गया है।

बिजली उत्पादन वाले सरप्लस राज्य में बिजली गुल होने पर सरकार को भाजपा लगातार घेर रही है। भाजपा नेताओं का कहना है कि कांग्रेस सरकार के कुप्रबंधन के कारण बिजली संकट खड़ा हो गया है।

इधर, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से लेकर कांग्रेस के तमाम नेता यह बयान दे चुके हैं कि सरकार पॉवरकट नहीं करा रही है। मुख्यमंत्री से लेकर कई मंत्री और कांग्रेस के नेता साजिश बताकर भाजपा के आरोप की काट करने में लगे हैं। मुख्यमंत्री ने तो बिजली कंपनी के नौ अधिकारियों को निलंबित भी कर दिया है।

अब एक ऑडियो सामने आया है, जिसने छत्तीसगढ़ सरकार और कांग्रेस को यह कहने का मौका दिया है कि वे सच बोल रहे थे। यह कहा जा रहा है कि मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार को बदनाम करने की साजिश वाले ऑडियो ने भाजपा और बिजली अधिकारियों की सांठगांठ की पोल खोल दी है। कांग्रेसी इन्हीं लाइनों के साथ ऑडियो को सोशल मीडिया पर वायरल कर रहे हैं।

कांग्रेसियों के अलग-अलग बयान

कांग्रेस नेताओं के बयान अलग-अलग आ रहे हैं। कोई कह रहा है कि भाजपा के इशारे पर बिजली कंपनी के अधिकारी पॉवरकट कर रहे हैं। कुछ नेताओं ने बयान जारी किया है कि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार में कमीशनखोरी और भ्रष्टाचार किया गया है, जिससे खराबी आ रही है।

वहीं, मंत्री टीएस सिंहदेव से लेकर कुछ नेता यह कह रहे हैं कि मेंटिनेंस के लिए बिजली बंद की जा रही है, लेकिन वैसी नहीं कि बिजली बिल हाफ, तो बिजली भी हाफ हो गई। दुष्प्रचार ज्यादा हो रहा है।

क्या है ऑडियो में?

मोबाइल पर बाचतीत के ऑडियो में एक व्यक्ति कह रहा है कि मध्यप्रदेश में ज्यादा से ज्यादा बिजली गुल करके कमलनाथ और उनकी सरकार को बदनाम करना है। दूसरा व्यक्ति पेमेंट मांग रहा है। वह कहता है कि 17 मिले हैं और चाहिए। पहला व्यक्ति बोलता है कि 15-20 और भिजवाता हूं, तुम बस बिजली गुल करके कमलनाथ को बदनाम करो।