मृगेंद्र पांडेय। रायपुर। Chhattisgarh Political News: कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का जय सियाराम वाला बयान छत्तीसगढ़ आते-आते रामायण के पात्र राक्षस कालनेमि तक पहुंच गया है। भाजपा ने राहुल के सियाराम का उपहास उड़ाते हुए कांग्रेस नेताओं को कालनेमि बताया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने राहुल के जय सियाराम का समर्थन करते हुए संघ पर निशाना साधा, तो भाजपा ने पलटवार करने में देर नहीं की। भाजपा ने कहा कि कांग्रेस का भगवान श्रीराम से कोई लेना देना नहीं है।

सीएम बघेल ने भाजपा व संघ पर हमला बोलते हुए कहा था कि संघ महिला विरोधी है, इसलिए संघ के शीर्ष पदों पर महिलाओं की नियुक्ति नहीं होती है। कांग्रेसी सीता और राम दोनों का मानते हैं। भाजपा में महिलाओं का सम्मान नहीं है। अब भाजपा के प्रदेश महामंत्री ओपी चौधरी ने एक बयान जारी करके कहा कि कालनेमि कांग्रेसी सनातन धर्म, भगवान श्रीराम, माता कौशल्या का अपमान करते रहते हैं। इनका दिखाने का स्वरूप अलग है और वास्तविक स्वरूप अलग है।

भाजपा का यह बयान उस घटना के बाद आया, जब मंत्री रविंद्र चौबे से मिलने अनियमित कर्मचारी पहुंचे और माता कौशल्या धाम से लाया नारियल सौंपने लगे। मंत्री चौबे ने नारियल लेने से इनकार कर दिया। इस पर ओपी चौधरी ने कहा कि राहुल गांधी मंदिर-मंदिर माथा टेक रहे हैं। मध्य प्रदेश में जय श्रीराम और जय सियाराम को लेकर राजनीतिक बयान दे रहे हैं, और छत्तीसगढ़ के कांग्रेसी भगवान श्रीराम की माता कौशल्या के मंदिर का प्रसाद भी ग्रहण नहीं कर रहे हैं।

गौरतलब है कि कांग्रेस ने पिछले विधानसभा चुनाव में अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने का वादा किया था। उस दिशा में सरकार ने पहल शुरू कर दी है और विभागों से अनियमित कर्मचारियों की भर्ती प्रक्रिया की जानकारी मांगी है। प्रदेश में करीब डेढ़ लाख अनियमित कर्मचारी हैं। चौधरी ने कहा कि प्रदेश में शराबबंदी करने के लिए गंगाजल हाथ में लेने वालों ने गंगा मैया को धोखा दिया। अब नियमितीकरण का वादा कर कर्मचारियों को ठगने वालों ने माता कौशल्या का भी अनादर कर दिया। यह सरकार हिंदुत्व का अपमान करने और जनता से विश्वासघात करने का ठेका लेकर बैठी है।

रमन सरकार के कालनेमि खा गए युवाओं का रोजगार: कांग्रेस

भाजपा के आरोपों का कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने जवाब दिया। ठाकुर ने कहा कि प्रदेश में 15 साल में रमन सरकार के कालनेमि युवाओं का रोजगार खा गए। राहुल गांधी ने इनकी पोल खोलते हुए जय सियाराम क्या बोला, ये तिलमिला गए। 15 साल प्रदेश में भाजपा नेताओं को न भगवान श्रीराम की याद आई, न ही कौशल्या माता की सुध ली। रमन सरकार में युवाओं को सीधी भर्ती का अवसर नहीं मिला। आउटसोर्सिंग से प्रदेश के बाहर के लोगों को रोजगार दिया। भाजपा धर्म, आस्था की आड़ में रमन सरकार के कार्यों को छिपा नहीं सकती। भूपेश सरकार ने ढाई लाख शिक्षाकर्मियों का संविलियन किया। कालेज में प्रोफेसरों की भर्ती, पुलिस भर्ती, वन विभाग मंे भर्ती करके युवाओं को रोजगार देने का काम किया।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close