रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। चक्रवाती तूफान जवाद का असर छत्‍तीसगढ़ के मौसम में पड़ेगा। मौसम विज्ञानियों का कहना है कि इसके प्रभाव से चार से छह दिसंबर के बीच रायपुर संभाग, बिलासपुर संभाग व बस्तर संभाग के कुछ जिलों में हल्की बारिश के आसार है। दूसरी ओर इन दिनों प्रदेश में पूर्वी हवा आनी शुरू हो गई है। इसके प्रभाव से शुक्रवार तीन दिसंबर को प्रदेश के दक्षिणी भाग में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे। साथ ही अधिकतम व न्यूनतम तापमान में बढ़ोतरी के आसार है।

मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि बंगाल की खाड़ी और उसके आसपास अंडमान सागर पर निम्न दबाव का क्षेत्र है। यह प्रबल होकर चक्रवाती तूफान में बदल रहा है और चार दिसंबर शनिवार की सुबह उत्तर आंध्रप्रदेश व दक्षिणी ओडिशा तट पर पहुंचेगा। इसके प्रभाव से शनिवार चार दिसंबर से सोमवार छह दिसंबर के दौरान रायपुर संभाग, बस्तर संभाग व बिलासपुर संभाग के कुछ क्षेत्रों में हल्की बारिश होने के आसार है।

तापमान में विशेष बदलाव नहीं

राजधानी रायपुर सहित प्रदेश के विभिन्न् क्षेत्रों के अधिकतम व न्यूनतम तापमान में कोई विशेष बदलाव नहीं है। इसके चलते रात्रि में अभी भी ठंड में थोड़ी बढ़ोतरी है। विशेषकर आउटर क्षेत्रों में तो कोहरे का असर भी बना हुआ है। गुरुवार को रायपुर का अधिकतम तापमान 28.6 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 15.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। प्रदेश में सबसे कम न्यूनतम तापमान कृषि विज्ञान केंद्र कोरिया में 09.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। रायपुर का न्यूनतम तापमान तो अभी भी सामान्य से एक डिग्री सेल्सियस अधिक है।

मौसम खराब किसान परेशान

प्रदेश में एक फिर से मौसम खराब होने से किसानों की चिंता बढ़ गई है। वे अपनी खड़ी और कटी हुई फसल को बचाने के लिए जद्दोजहद कर रहे है। बतादें कि पिछले सप्ताह हुई बारिश ने धान की फसल को खासा नुकसान पहुंचाया था। किसान अभी इस बारिश से उबरे नहीं थे कि एक बार फिर उनकी चिंता बढ़ गई है। बतादें कि प्रदेश में एक दिसंबर से धान खरीदी शुरू हो गई है। अभी छोटे किसान को धान बेचने के लिए टोकन दिया जा रहा है। इतना ही नहीं सोसायटियों में अपनी क्षमता के अनुरूप धान खरीदी नहीं हो रही है।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local