रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

छत्तीसगढ़ में एक बार फिर मौसम करवट लेगा। दो दिन बाद प्रदेश में बारिश होने की संभावना है। वजह एक बार फिर से उत्तरी हवा प्रदेश की ओर गुजरेंगे। दरअसल उत्तर भारत में पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो चुका है। मौसम विज्ञानियों का दावा है कि यह विक्षोभ राजस्थान से होते हुए मध्यप्रदेश और इसके बाद छत्तीसगढ़ से गुजरेगा। सबसे पहले इसका असर प्रदेश के उत्तरी इलाकों में होगा। लिहाजा 14 फरवरी को प्रदेश के उत्तरी इलाकों में बारिश होने की संभावना है। इसके बाद 15 और 16 फरवरी को विक्षोभ का असर पूरे प्रदेश में दिखाई देगा। बारिश तो होगी ही, साथ ही न्यूनतम तापमान में भी गिरावट दर्ज हो सकती है। जाहिर सी बात है कि एक बार फिर मौसम ठंड मिजाज में अधिक हो जाएगा। इससे लोगों को ठंड का अहसास अधिक होगा।

बढ़ गया रायपुर का अधिकतम तापमान

मंगलवार को प्रदेश का तापमान में कोई विशेष परिवर्तन नहीं दिखा। खासकर रायपुर में अधिकतम तापमान 30 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड हुआ, जबकि न्यूनतम तापमान 14. 2 डिग्री से.दर्ज किया गया। एक दिन पहले रायपुर का अधिकतम तापमान 28. 4 डिग्री से. था जो कि सामान्य से दो डिग्री से. कम रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 12. 9 डिग्री से., जो कि सामान्य से तीन डिग्री से. नीचे रिकॉर्ड किया गया ।

सबसे कम न्यूनतम तापमान यहां

प्रदेश में सबसे कम न्यूनतम तापमान अंबिकापुर में 8.3 डिग्री से. रिकॉर्ड किया गया, जबकि यहां अधिकतम तापमान 25.5 डिग्री से. रिकार्ड हुआ। इसी तरह बिलासपुर में अधिकतम तापमान 29.6 डिग्री से. और न्यूनतम तापमान 11.7 डिग्री से. , पेंड्रारोड में अधिकतम तापमान 28.5 डिग्री से. और न्यूनतम तापमान 8.7 डिग्री से., जगदलपुर में अधिकतम तापमान 31.2 डिग्री से. और न्यूनतम तापमान 11.2 डिग्री से. रिकॉर्ड हुआ है।

वर्जन

विक्षोभ का कल से ही असर

विक्षोभ का असर 14 फरवरी से ही प्रदेश के उत्तरी इलाकों में दिखाई देगा। इसके बाद 15 और 16 फरवरी को संपूर्ण छत्तीसगढ़ में मौसम में बदलाव होगा और बारिश होने की संभावना है। - पीएल देवांगन, मौसम विज्ञानी, मौसम केंद्र रायपुर