रायपुर। महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी अधिनियम के तहत रोजगार देने में रायपुर जिला पिछड़ता नजर आ रहा है। पांचों विधानसभा में मिलाकर रायुपर जिले में कुल 416 ग्राम पंचायत हैं, जिनमें इस वित्तीय वर्ष में अब तक सिर्फ 264 लोगों को ही 100 दिन का रोजगार देने में विभागीय अमला सफल हो पाया है। इससे पहले यह आंकड़ा 10 हजार से लेकर 23 हजार तक रहा। इस वर्ष रोजगार देने की संख्या काफी कम है। वहीं, विभिन्ना परिवारों को 100 का दिन का रोजगार देने में आरंग जिले ने बाजी मारी है। जिले का औसत मानव दिवस भी सुधरने नहीं रहा है। आंकड़ों के अनुसार प्रति परिवार औसत मानव दिवस रोजगार अधिकतम 57 ही है।

वर्षवार 100 कार्य दिवस पूरा करने वाले परिवार

सत्र परिवारों की संख्या

2018-19-11,252

2019-20-10,320

2020-21-23,217

2021-22-17,574

2022-23 (मार्च से सितंबर तक) 264

वर्षवार रोजगार का औसत मानव दिवस

सत्र औसत मानव दिवस

2018-19-50

2019-20-51

2020-21-57

2021-22-53

2022-23 (मार्च से सितंबर तक) 24

वर्षवार अग्रणी विधानसभा

2018-19 में अभनपुर में 100 दिवस पूरा करने वाले सबसे ज्यादा 3,126

2019-20 में आरंग में 100 दिवस पूरा करने वाले सबसे ज्यादा 3,910

2020-21 में आरंग में 100 दिवस पूरा करने वाले सबसे ज्यादा 9,263

2021-22 में फिर आरंग में 100 दिवस पूरा करने वाले सबसे ज्यादा 7,357

2022-23 में भी अब तक आरंग सबसे आगे 110

विधानसभावार 2022-23 में 100 कार्यदिवस पूरा करने वाले परिवार

विधानसभा परिवार

अभनपुर 42

आरंग 110

धरसींवा 70

बलौदा बाजार 40

रायपुर ग्रामीण 02

रायपुर कलेक्टर डा. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने कहा, समीक्षा बैठक के दौरान इसमें बढ़ोतरी करने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही औसत कम क्यों है, इसके कारणों की भी जानकारी ली जा रही है। जल्द ही इसमें सुधार किया जाएगा।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close