रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में गोगांव अंडरब्रिज बनवा रहे पीडब्ल्यूडी विभाग ने शुक्रवार को उरकुरा-सरोना मार्ग पर रेलवे फाटक बंद करवाने का प्रयास किया। इस फाटक से होकर दर्जन भर गांवों के लाखों लोग गुजरते हैं। फाटक बंद होने से लोग परेशान हो उठे। लोगों ने विरोध किया। ठेका कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि कलेक्टर से फाटक बंद करने की अनुमति मिल गई है। अगले एक महीने तक फाटक बंद रहेगा। आवश्यकता पड़ी तो पुलिस की सहायता भी ली जाएगी।

ये ब्रिज चार साल से लंबित पड़ा है। 35 करोड़ 40 लाख के खर्चे से बन रहे इस ब्रिज को 2017 में पूरा कर लेना था पर ठेका कंपनी ये काम नहीं कर पाई। बाद में विभाग ने दूसरी कंपनी को ठेका दिया। दूसरी कंपनी भी अब तक केवल 60 प्रतिशत काम ही पूरा कर पाई है। गोगांव रेलवे क्रासिंग उरकुरा- सरोना बाइपास रेल लाइन में स्थित है। रेलवे क्रासिंग से ही गोगांव और अशोक नगर जाने के लिए सबसे समीप का मार्ग निकलता है। रेलवे क्रासिंग के बंद होने से अब लोगों को चार किलोमीटर की दूरी तय कर गोंदवारा से होकर जाना पड़ेगा।

दस मिनट रहता है फाटक बंद

उरकुरा-सरोना बाइपास रेललाइन से एक दिन में 130 मालगाड़ी गुजरती है। प्रत्येक दस मिनट में रेलवे फाटक बंद होता है। लंबी और धीमी रफ्तार की मालगाड़ियों के कारण फाटक खुलने में भी औसतन 10 मिनट लगते हैं। इस दौरान दोनो ओर दिनभर लंबा जाम लगता है। इसीलिए यहां अंडरब्रिज बनवाया जा रहा था, लेकिन काम में विलंब के कारण यह समस्या और भी बढ़ गई है।

एक लाख लोगों को मिलेगी राहत

गोगांव रेलवे क्रासिंग से कोटा, जनता कालोनी, गुढियारी, अशोक नगर, तिलक नगर, सूर्य नगर, सीता नगर, बजरंग नगर, उरला, अछोली, कबीर नगर, सरोरा, सिलतरा, सोनडोंगरी के लोग आना-जाना करते हैं। इन यात्रियों को अब गोंदवारा से होकर आना-जाना करना पड़ेगा। अंडरब्रिज का निर्माण कार्य पूरा होेने से करीब एक लाख लोगों को राहत मिलेगी।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close