रायपुर। रायपुर से कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद दुबे शुरुआत से ही पीछे चल रहे थे। दुबे को पीछे छोड़ते हुए भाजपा के सुनील सोनी ने बड़ी आसान जीत दर्ज कर ली है। बता दें कि, छत्तीसगढ़ की रायपुर लोकसभा सीट पर तीसरे चरण में 23 अप्रैल को वोट डाले गए थे। यहां से भारतीय जनता पार्टी ने सुनील सोनी, कांग्रेस ने प्रमोद दुबे, बसपा ने खिलेश कुमार साहू उर्फ खिलेश्वर, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने अजय चकोले को मैदान में उतारा था। रायपुर लोकसभा सीट पर वर्ष 1989 से 2014 तक हुए आठ चुनावों में सिर्फ एक बार 1991 में कांग्रेस को जीत मिली थी। वर्ष 2014 के चुनाव के समय विधानसभा चुनाव में इस क्षेत्र के अंदर आने वाली नौ सीटों में कांग्रेस को सिर्फ तीन सीटों पर ही जीत मिली थी। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि रायपुर संसदीय क्षेत्र में भाजपा की साख ज्यादा मजबूत थी, लेकिन अब समीकरण बदल गए थे।

यहां दिलचस्प बात यह है कि दोनों ही प्रत्याशी रायपुर शहर के रहवासी हैं। प्रमोद अभी मेयर हैं और सुनील पूर्व मेयर है। इसके बाद भी रायपुर शहर से जुड़ी चारों सीटों रायपुर दक्षिण, ग्रामीण, उत्तर और पश्चिम में अपेक्षित मतदान नहीं हुआ था। इससे भी राजनीतिक विश्लेषक अचंभित थे। रायपुर लोकसभा के अंतर्गत विधानसभा की नौ सीटें आती हैं। इनमें से एक अनूसूचित जाति के लिए आरक्षित हैं। धरसींवा और बलौदाबाजार में सर्वाधिक कुर्मी, अभनपुर व रायपुर ग्रामीण में साहू, आरंग में सतनामी वोटर बाकी रायपुर अन्य शहरी तीन विधानसभाओं में मिला-जुला समीकरण है।

इससे पहले के चुनावी इतिहास की भी बात करें तो रायपुर लोकसभा सीट के इतिहास में अनोखा रिकार्ड दर्ज है। राजनीतिक गलियारों में आज भी उन सांसदों की चर्चा होती है, जिन्होंने काफी मशक्कत के बाद अपना नाम दर्ज कराया है। नए मतदाताओं को शायद यह जानकारी नहीं होगी कि रायपुर में वर्ष 1957 में रानी केशर कुमारी देवी ने कांग्रेस की ओर से सांसद का चुनाव जीता था। सबसे दिलचस्प रिकार्ड वर्ष 1977 में भारतीय लोकदल के नेता व रायपुर सांसद रहे प्रत्याशी पुरुषोत्तम लाल कौशिक का है, जिन्होंने कुल मतदाताओं का 35.89 प्रतिशत मत हासिल किया था। जानकारों का कहना है कि उस समय पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की ओर से लगाए गए आपातकाल को लेकर लोगों में भारी रोष था। इसका फायदा पुरुषोत्तम लाल कौशिक को मिला। वहीं सांसद रमेश बैस के सिर सातवीं बार यह ताज है।

पिछले वर्षों के लोकसभा चुनाव में ये रहे सांसद

सामान्य सीट

वर्ष प्रत्याशी पार्टी मत प्रतिशत

1957 राजा वीरेंद्र बहादुर सिंह कांग्रेस 24.10

रानी केशर कुमारी देवी कांग्रेस 23.59

1962 रानी केशर कुमारी देवी कांग्रेस 20.47

1967 एल गुप्ता कांग्रेस 19.28

1971 विद्याचरण शुक्ला कांग्रेस 24.61

1977 पुरुषोत्तम लाल कौशिक भारतीय लोकदल 35.89

1980 केयूर भूषण कांग्रेस(आई) 24.17

1984 केयूर भूषण कांग्रेस 33.49

1989 रमेश बैस भाजपा 30.58

1991 विद्याचरण शुक्ला कांग्रेस 20.62

1996 रमेश बैस भाजपा 22.91

1998 रमेश बैस भाजपा 30.64

1999 रमेश बैस भाजपा 30.13

2004 रमेश बैस भाजपा 27.44

2009 रमेश बैस भाजपा 23.11

2014 रमेश बैस भाजपा 34.38

बिलासपुर-दुर्ग-रायपुर के सांसद

1952 आगमदास कांग्रेस 15.36

भूपेंद्रनाथ मिश्र कांग्रेस 13. 17

यह भी पढ़ें...

Mahasmund Lok Sabha Result 2019: कांग्रेस के धनेंद्र साहू ने भाजपा को छोड़ा पीछे, अब तक मिले इतने वोट

Raigarh Lok Sabha Result 2019: भाजपा की गोमती साय की बढ़त जारी, कांग्रेस प्रत्याशी रहे गए इतने पीछे

Bastar Lok Sabha Result 2019: भाजपा प्रत्याशी बैदूराम से इतने आगे चल रहे हैं कांग्रेस के दीपक बैज

Bilaspur Lok Sabha Result 2019 : शुरुआती रूझान में बिलासपुर सीट पर कांग्रेस आगे

Posted By: Sandeep Chourey