रायपुर। बच्चों को स्कूल तक पहुंचाने में राज्य सरकार करोड़ों रुपए तो खर्च कर रही है, लेकिन बच्चे सुलभ तरीके से स्कूल तक पहुंच पाएं, इसके लिए ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण राजधानी रायपुर से लगे मांढर में आपको देखने को मिल जाएगा। मांढर बस्ती से लगे स्कूल में जाने के बच्चों को सबसे व्यस्ततम मुंबई-हावड़ा रूट पार करना पड़ता है। स्कूल की दूरी लंबी होने के कारण ये बच्चे रोजाना रेलवे ट्रैक पार करने के बाद स्कूल जाते हैं।

मांढर बस्ती में स्थित इस प्राइमरी स्कूल में आसपास के गांव के बच्चे भी आते हैं। ऐसे में रोजाना या तो बच्चों के माता-पिता बच्चों को छोड़ने स्कूल जाते हैं या फिर वे खुद अपने साथियों के साथ स्कूल के लिए निकल पड़ते हैं। इस दौरान उन्हें रोजाना रेलवे ट्रैक पर खड़ी गाड़ियों के नीचे से होकर गुजरना पड़ता है। इस दौरान किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना भी घटित हो सकती है। हालांकि अब तक ऐसी कोई घटना सामने नहीं आई है, लेकिन फिर भी रेलवे के इस सबसे व्यस्ततम रूट में हर घंटे सुपरफास्ट, एक्सप्रेस सहित लोकल और मालगाड़ियां गुजरती हैं।

फुट ओवरब्रिज का निर्माण जारी

मांढर स्टेशन में इन दिनों फुट ओवरब्रिज का निर्माण कार्य जारी है। फुट ओवरब्रिज का स्ट्रक्चर तो खड़ा कर लिया गया है, लेकिन अभी तक इसे शुरू नहीं किया जा सका है। फुट ओवरब्रिज के निर्माण के बाद शायद इन बच्चों को जान जोखिम में डालकर स्कूल जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।