रायपुर। राजधानी सहित प्रदेश के कई हिस्सों में शुक्रवार की शाम तेज हवा के साथ बौछारें पड़ीं और मौसम खुशनुमा हो गया। बंगाल की खाड़ी से नमी आ रही है, जिसके चलते यहां प्री-मानसूनी बारिश होने लगी है। राजधानी में सुबह धूप निकली और उमस से लोग बेहाल रहे। शाम को अंधड़ और बौछारों के बाद तापमान में गिरावट आई। सर्वाधिक वर्षा नारायणपुर में 5 सेमी रिकॉर्ड की गई। मौसम विभाग का कहना है कि मानसून आते तक रोज अंधड़ के साथ बौछारें पड़ती रहेंगी।

प्रदेश में 15 दिनों तक भीषण गर्मी के बाद मौसम बदला है और तापमान 40 के नीचे चल रहा है। फिर भी उमस ने लोगों को बेहाल कर दिया है। शुक्रवार को प्रदेश में कहीं-कहीं गरज-चमक के साथ बौछारें पड़ीं। अधिकतम तापमानों में रायपुर, बिलासपुर और सरगुजा संभाग में काफी बढ़ोतरी हुई। प्रदेश में सर्वाधिक तापमान बिलासपुर में 41 डिग्री रिकॉर्ड की गई। जशपुर में दोपहर बाद मौसम बदला और तेज आंधी के साथ बारिश हुई। बस्तर संभाग के ज्यादातर शहरों में अच्छी बारिश होने के बाद मौसम ठंडा हो गया है। जगदलपुर में सबसे कम तापमान 34.1 डिग्री रहा।

बारिश के आंकड़े सेमी में -नारायणपुर-5, दरभा, ओरछा-3, बस्तर, फरसगांव, कटेकल्याण-2, मैनपाट, कुनकुरी, जगदलपुर-1 सेमी

लालपुर केन्द्र के मौसम विज्ञानी पीएल देवांगन के मुताबिक ओडिडशा के ऊपरी हवा में चक्रवात के असर से प्रदेश में कहीं -कहीं बारिश हुई है और आगामी चौबीस घंटों के दौरान भी गरज-चमक के साथ अंधड़ चलने की चेतावनी है।

केरल पहुंचा मानसून

मौसम विभाग के मुताबिक मानसून केरल पहुंच गया है और इसके बाद वह कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र होते हुए छत्तीसगढ़ पहुंचेगा। आमतौर पर केरल में मानसून पहुंचने की तारीख 1 जून मानी जाती है, लेकिन यह चार दिन देर से पहुंचा है। बंगाल की खाड़ी और महासागरों में हलचल नहीं होने की वजह से मानसून धीमा रहा, लेकिन अब इसकी रफ्तार में तेजी आने की संभावना जताई जा रही है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close