रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

छत्तीसगढ़ी मिष्ठान्न दीपावली के लिए तैयार होने लगे हैं। इस वर्ष जिला पंचायत रायपुर के कैंटीन में महिलाएं मिठान्न तैयार नहीं कर रही हैं। इस साल टेमरी में संचालित बिहान कैफेटेरिया की महिलाओं को छत्तीसगढ़ी व्यंजन बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। विभागीय सूत्रों की मानें तो इस बार लगभग 10 हजार गिफ्ट पैकेट तैयार करने का लक्ष्य रखा गया है। ज्ञात हो कि पिछले वर्ष प्रदेश में संचालित कई निजी कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को मिठाई देने के लिए छत्तीसगढ़ी व्यंजन खरीदा था। इस वर्ष भी तैयारी है। पहली बार जिला पंचायत रायपुर में संचालित बिहान कैंटीन में ट्रायल के रूप में यह काम शुरू किया गया था ।

दो महीने की मिली थी ट्रेनिंग

स्थानीय व्यंजन को बड़ा बाजार देने के साथ ही गांव में रहने वाली समूह की महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत करने के लिए विभाग ने मिष्ठान तैयार करने की ट्रेनिंग दिलाई थी। इसके बाद 10 महिलाओं का समूह ठेठरी, खुरमी, करी लड्डू, पूरन लड्डू, खाजा, पिडिया, अरसा सहित कई मिष्ठान्न तैयार करने लगा ।

सात हजार पैकेट की बुकिंग थी

पिछले वर्ष प्रदेश में संचालित कार्पोरेट कंपनियों के साथ स्टील, इलेक्ट्रानिक्स, हास्पिटल में कार्यरत कर्मचारियों को दीपावली गिफ्ट के रूप दिया गया। विभाग के अधिकारी विक्रम लोधी की मानें तो समूह ने लगभग सात हजार से अधिक पैकेट पिछले वर्ष बेचे थे।

बाजार की मिठाई से बेहतर

समूह की महिलाओं को छत्तीसगढ़ी मिष्ठान्न तैयार कराने की ट्रेनिंग देने में बहुत अधिक समय नहीं लगा, लेकिन तैयार व्यंजन को किस तरह से डिजाइन किया जाए, इस पर जिला पंचायत ने कड़ी मेहनत की।

विभाग ने बढ़ाया हौसला

ट्रेनिंग के दौरान समूह की महिलाओं को मिष्ठान्न की क्वालिटी का विशेष ध्यान रखने को कहा गया। इससे तैयार छत्तीसगढ़ी मिष्ठान्नों को लगभग 15 दिनों से अधिक सुरक्षित रख कर खाया जा सकता है। टेमरी गांव की रहवासी और जागृति सेवा सहायता समूह की अध्यक्ष त्रिवेणी साहू ने बताया कि शुरू में तो बहुत डर लग रहा था कि बाकी महिलाओं का सहयोग बीच में छूट तो नहीं जाएगा, लेकिन जिला पंचायत के सीईओ ने काफी हौसला बढ़ाया। उनका यही कहना था कि स्वयं के लिए कुछ करना है तो यही अवसर है। बाकी चिंता विभाग पर छोड़ दो।

यहां मिलेगा मिष्ठान्न

छत्तीसगढ़ी मिष्ठान का आर्डर करने के लिए कहीं भटकने की जरूरत भी नहीं है, क्योंकि जिला पंचायत रायपुर में बिहान विभाग है, जहां पर योजना प्रभारी विक्रम लोधी के माध्यम से मिष्ठान के लिए बुकिंग कर सकते हैं। जल्द ही रेलवे स्टेशन, हॉस्पिटल, एयरपोर्ट, बस स्टैंड आदि सार्वजनिक स्थलों पर उत्पादों को रखा जाएगा, जिससे लोगों को कही भटकने की जरूरत नहीं होगी।

हर वर्ग का पूरा ध्यान

मिष्ठान्न तैयार करने के दौरान सभी वर्गों का विशेष ध्यान रखा गया है। इसमें लगभग 50 रुपये से लेकर 350 रुपये के पैकेट हैं। आधा किलो से लेकर डेढ़ किलो के पैकेट शामिल हैं। इन्हें हर वर्ग तक पहुंचाया जा सकता है। वहीं पैकेटों में गोबर के दीये भी रखे जाएंगे यानी मिठाई के साथ दीपावली के दीये भी काम्बो पैकेट में शामिल हैं।

वर्जन

- स्थानीय मिष्ठान्न के माध्यम से समूह की महिलाओं को आर्थिक रूप से मजबूत करने की सोच है। इसमें विभाग की टीम को जिम्मेदारी दी गई है।

- डा. गौरव सिंह, सीईओ, जिला पंचायत, रायपुर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस