बलरामपुर/रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य में एक अनोखा मामला सामने आया है। दरअसल यहां के बलरामपुर के सनावल गांव के पतेरीपारा क्षेत्र में ग्रामीणों के नाम बिजली बिल जारी कर दिए गए। जब इन ग्रामीणों को उनके नाम के बिल थमाए गए तो उन्हें बेहद आश्चर्य हुआ। ग्रामीणों का कहना था कि, उन्हें बिना कारण ही बिल जमा करना पड़ रहा है।

जबकि वे बिजली का उपयोग ही नहीं कर पाते हैं। ग्रामीणों का कहना है कि यहां शाम होते ही अंधेरा गहराने लगता है। गृहिणियों को घर में अंधेरे में और चूल्हे पर ही भोजन पकाना पड़ता है।

जबकि विद्य़ार्थी अपनी पढ़ाई लालटेन और लैंप की रोशनी में करने के लिए मजबूर हैं। इस मामले में अधिकारी अपनी मजबूरी का हवाला देकर मामले से पल्ला झाड़ रहे हैं। जबकि ग्रामीण विद्युत सप्लाय न होने से अभाव में ही जीवन जीने के लिए विवश हैं।