रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। जमीन का फर्जी दस्तावेज तैयार कर बेचने के मामले में पुलिस ने दो लोगांे के खिलाफ अपराध दर्ज किया है। मामले में खास बात यह है कि प्रार्थी की जमीन को दो बार दो अलग-अलग लोगांे को बेचा गया है। डीडी नगर थाने में आरोपितों के खिलाफ अपराध दर्ज कर मामले की जांच में जुट गई है।

डीडी नगर पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार मुंबई निवासी मनमोहन सिंह की सात हजार स्क्वेयर फीट जमीन डीडी नगर थाना क्षेत्र के अग्रोहा गृह निर्माण समिति में है। इसका खसरा नंबर 260/10 है। इसे मनमोहन सिंह ने 22 मार्च 2021 को क्रय कर स्वामित्व प्राप्त किया था। फिर लाक डाउन व व्यस्तता की वजह से नामांतरण नहीं करवा पाए थे। बाद में जब नामांतरण की प्रक्रिया चाकू करवाए तो पता चला कि उनकी संपत्ति को कूटरचित दस्तावेजों के आधार पर दो बार बेच दिया गया है।

पहली बार यूपी के बांदा निवासी मोहम्मद जावेद ने उनके जमीन खरीदने के दो माह बाद 19 मई 2021 को रूपेश कुमार चौबे को बेचा था। तुरंत बाद ही रुपेश ने इसे रामवतार तिवारी को बेच दिया। इसे फर्जी दस्तावेजों के आधार पर जावेद,रुपेश चौबे और अन्य लोगों ने बेच दिया। जमीन मनमोहन सिंह की थी। पुलिस की जांच में पता लगा कि जावेद व रुपेश ने अपने अन्य साथियों के सहयोग से फर्जी दस्तावेज तैयार कर मनमोहन सिंह की जमीन बेची है।

पीड़ित ने फर्जीवाड़े में जमीन उपपंजीयक एसके देहारी, गवाह संजय उपाध्याय, भूपेंद्र बावनकर, कृष्णकांत रामवतार तिवारी और दस्तावेज लेखक संतोष तिवारी के मिलीभगत व शामिल होने की शिकायत की। डीडी नगर थाना प्रभारी कुमार गौरव साहू ने बताया कि अभी इन्हें नामजद आरोपित नहीं बनाया है। जांच के बाद तथ्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close