रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी के लोगों को तेलघानी नाका ओवरब्रिज के लिए आठ माह का इंतजार करना पड़ेगा, क्योंकि लोक निर्माण विभाग पिछले सात माह से रेलवे से ब्लाक की मांग कर रहा है, लेकिन अभी तक ब्लाक नहीं मिल पाया है। ब्लाक न मिल पाने के कारण गर्डर नहीं चढ़ पा रहा है।

गर्डर लांचिंग के बाद स्लैब और फिनश्ािंग का काम करने में छह माह से अधिक समय लगेगा। इस कारण्ा राजधानी वासियों को ओवरब्रिज की सुविधा अब बारिश के बाद मिल पाएगी। ब्लाक न मिल पाने की वजह रेलवे गर्मी में ट्रेनों और यात्रियों का दबाव होने की बात कह रहा है। वहीं लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों का कहना है कि ओवरब्रिज का काम पूरा हो गया है। बस गर्डर चढ़ाने की प्रक्रिया ही शेष है।

ज्ञात हो कि तेलघानी नाका ओवरब्रिज के निर्माण के लिए 12 सितंबर, 2018 को वर्क आर्डर जारी हुआ था। कंपनी को 11 अप्रैल, 2020 तक काम पूरा करना था, लेकिन ओवरब्रिज का निर्माण कार्य दो साल विलंब से चल रहा है। इसकी वजह है कि शासन को पांच लोगों की जमीन का अधिग्रहण करना था, जिनमें से तीन लोग अपनी जमीन देने के लिए तैयार नहीं हो रहे थे।

30 हजार रुपये प्रति वर्ग मीटर रेट निर्धारित था, लेकिन सरकार ने जमीन का रेट कम कर दिया। इस कारण भू स्वामी अपनी जमीन नहीं दे रहे थे। भूअर्जन न होने से करीब छह माह तक काम बंद था। कलेक्टर के हस्तक्षेप के बाद भूअर्जन का काम पूरा हुआ। उसके बाद कोरोना संक्रमण आ गया, जिस कारण काम बंद हो गया था। कोरोना संक्रमण खत्म होने के बाद काम शुरू हुआ तो आठ माह से रेलवे ब्लाक नहीं दे रहा था, जिस कारण ओवरब्रिज का काम निर्धारित समय पर पूरा नहीं हो पाया।

तेलघानी नाका पर अक्सर लगता है जाम

तेलघानी नाका ब्रिज काफी पुराना हो गया है, इसलिए शासन ने भारी वाहनों पर प्रतिबंध लगा दिया है। इस कारण तेलधानी नाका चौक पर यातायात का दबाव अक्सर बना रहता है। यहां पर अक्सर जाम की स्थिति बनी रहती है। ओवरब्रिज का निर्माण कार्य पूरा होने से आम जनता को काफी राहत मिलेगी। वहीं भारी वाहन भी आसानी से तेलघानी नाका से गुढ़ियारी आना-जाना कर सकेंगे।

यहां के रहवासियों को आ रही दिक्कत

नया ओवरब्रिज बनने से गुढ़ियारी जाना आसान हो जाएगा, लेकिन ओवरब्रिज के बंद होने से वर्तमान में गुढ़ियारी, अशोक नगर, बड़ा अशोक नगर, शिवानंद नगर, श्रीनगर, कबीर नगर समेत अन्य कालोनियों में जाना है तो तेलघानी नाका ब्रिज ही बेहतर विकल्प है। यह ओवरब्रिज रामसागरपारा और स्टेशन क्षेत्र से पटरी के उस पार गुढ़ियारी के आधा दर्जन वार्डों को जोड़ता है। इससे रोजाना एक लाख से अधिक लोग सफर करते हैं। ओवरब्रिज शुरू न होने से इन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

ओवरब्रिज पर गर्डर चढ़ाने के लिए रेलवे से सितंबर, 2021 से ब्लाक के लिए पत्राचार किया जा रहा है। ब्लाक मिलने के बाद फिनिश्ािंग और स्लैब का काम करने में छह माह का समय लगेगा।

-एसएस मांझी, अधीक्षण अभियंता

वर्जन

तेलघानी नाका ओवरब्रिज पर गर्डर चढ़ाने के लिए ब्लाक लेना पड़ेगा। ब्लाक की अनुमति के लिए बोर्ड से अनुमति मांगी गई है, अभी वह प्रक्रियाधीन है।

-विपिन वैष्णव, सीनियर डीसीएम, रेलवे मंडल, रायपुर

Posted By: Ravindra Thengdi

NaiDunia Local
NaiDunia Local