रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। छत्‍तीसगढ़ के रायपुर जिले में नशे के खिलाफ पुलिस ने अभिनव पहल करते हुए 'तुहर पुलिस तुहर द्वार" अभियान चला रही है। युवाओं को जागरूक करने के लिए थाना प्रभारी और जवान मोहल्ले, कालोलियों के साथ स्कूलों में पहुंच रहे हैं। नशे का सामान बेचने वालों की सूचना देने के लिए थाना प्रभारी अपना मोबाइल नंबर भी दे रहे हैं। शहर में बढ़ रहे सूखे नशे को देखते हुए अभियान शुरू की गई है। सूखे नशे की जद में सबसे ज्यादा नाबालिग शामिल हैं। नशीली टेबलेट, सिरप और गांजा का सेवन कर लूटपाट, मारपीट सहित अन्य वारदातों को अंजाम दे रहे हैं।

अपराध में पकड़े जाने वाले सबसे ज्यादा नाबालिग

पुलिस के क्राइम आंकड़ों में नाबालिगों के बढ़ते आंकड़ों ने सोचने पर मजबूर कर दिया है कि मौजूदा समय में बचपन खतरे में है, जिसका खामियाजा शहर को भुगतना पड़ रहा है। समय रहते इसमें सुधार नहीं हुआ तो आने वाले समय में हालात ज्यादा बिगड़ने से इन्कार नहीं किया जा सकता है। नाबालिगों को अपराध से दूर रखने और युवावस्था को सुधारने पुलिस ने काम शुरू कर दिया है। स्वजनों को पुलिस समझा रही है कि बच्चे क्या करते हैं, इसके बारे में पूरी जानकारी रखें।

गैंग बनाकर लूट को अंजाम

विगत दिनों उरला थाना क्षेत्र में नाबालिग पकड़े गए थे। पुलिस को पूछताछ में पता चला कि आरोपित गैंग बनाकर शाम को घर से सूनसान जगहों पर निकलते थे। इसके बाद मौका पाकर वारदात को अंजाम देते थे। करीब सभी थाना क्षेत्रों में ऐसे ही गैंग काम कर रहे हैं।

यातायात नियमों की जानकारी

सिविल लाइन थाना प्रभारी सत्यप्रकाश तिवारी ने एक निजी स्कूल में जाकर बच्चों को नशे के दुष्प्रभाव और यातायात नियमों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यातायात नियमों की जानकारी नहीं होने की वजह से ज्यादातर दुर्घटनाएं होती हैं। वहीं, नशे में वाहन चलाने से हादसे हो रहे हैं। उन्होंने बच्चों से कहा कि स्वजनों को बिना हेलमेट घर से बाहर न निकलने दें।

रायपुर एसएसपी प्रशांत अग्रवाल ने कहा, रायपुर पुलिस की तरफ से 'तुहर पुलिस तुहर द्वार" अभियान चालाया जा रहा है। प्रत्येक थाने की टीम मोहल्लों में पहुंचकर नशे के दुष्प्रभाव के बारे में बता रही है। नाबालिग नशे की चपेट में आ रहे हैं। अभियान का असर जरूर पड़ेगा।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close