रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे में रायपुर रेल मंडल पहला ई-ऑफिस के रूप में शुमार हो गया है यानी अब मंडल के सभी कामकाज ऑनलाइन ही निपटाए जाएंगे। पूरी तरह से पेपरलेस हो चुका है। शुक्रवार को इसकी शुरुआत महाप्रबंधक अजय विजयवर्गीय ने उद्घाटन कर की।

इस दौरान उन्होंने बताया कि डिजिटल इंडिया के सपनों को साकार करने और रेलवे में कार्यालय संबंधी कार्यों में कागज के इस्तेमाल को बंद करने को लेकर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे ने पहल कर दी है। कहा कि दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे का रायपुर रेल मंडल बहुत ही उत्कृष्ट कार्य कर रहा है। वैसे रायपुर रेल मंडल में नौ सितंबर से ही ई-ऑफिस की शुरुआत हो चुकी है।

ई-ऑफिस के साथ साथ मंडल ने वाईफाई, रेलवे हस्पिटल में ऑनलाइन चिकित्सा स्लीप व्यवस्था की गई है।

बढ़ेगी विभागों की कार्यकुशलता

ई-ऑफिस से रेलवे में पारदर्शिता, कार्य कुशलता और जवाबदेही को बढ़ावा मिलने की उम्मीद है। ई-ऑफिस एक विशाल गो-ग्रीन पहल है और इससे कार्यालय की कार्य संस्कृति में एक नई शुरुआत होगी।

फाइलों की संख्या होगी कम

कागज सामग्री संबंधी लागत कम करने के अलावा यह प्रणाली फाइलों को संभालने की बोझिल प्रक्रिया से बचने में भी मदद करेगी। रेल मंत्रालय के अधीन पीएसयू रेलटेल की मदद से इसका कार्यान्वयन किया गया।

पेपर के खर्च भी बचेंगे, क्लाउड सॉफ्टवेयर से होगा संचालित

ई कार्यालय- सिकंदराबाद तथा गुरुग्राम स्थित रेलटेल की टियर 3 अभिप्रमाणित डाटा सेंटरों से प्रयुक्त एक क्लाउड सक्षम सॉफ्टवेयर है। डिजिटलाइजेशन से हार्ड कॉपी के बजाय इलेक्ट्रॉनिक होने से पेपर रहित कार्यालयीन कार्य होंगे। पेपर पर खर्च होने वाले रेलवे राजस्व में कमी आएगी।

जीएम ने की पुरस्कार की घोषणा

महाप्रबंधक ने ई-आफिस की पहल के लिए पुरस्कार की भी घोषणा की है। इसमें रायपुर मंडल शामिल होगा। इसके अलावा अन्य मंडलों को भी ई-ऑफिस संस्कृति अपनाने पर पुरस्कार मिलेंगे।

ई-ऑफिस का भी प्रदर्शन

उप महाप्रबंधक और मुख्य जनसंपर्क अधिकारी रविंद्र कुमार सिंह ने ऑनलाइन ई-ऑफिस का प्रदर्शन भी किया। ई-फाइलों का जीएम से अवलोकन भी कराया।