रायपुर। मौसम विभाग ने दो दिन बाद भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी दी है। अभी तक खाड़ी में कोई सिस्टम नहीं होने के कारण दक्षिण-पश्चिम मानसून रायपुर में आकर ठहर गया है। छत्तीसगढ़ में दस्तक देने के पांच दिन बाद भी यह आगे नहीं बढ़ पा रहा है। आसमान में रोज बदली छा रही है, लेकिन कम बारिश हो रही है। यही कारण है कि प्रदेश में बोनी शुरू नहीं हुई। खाड़ी में बन रहे सिस्टम के प्रभाव से मानसून भी आगे बढ़ेगा और प्रदेशभर में बारिश होने की संभावना मौसम विभाग ने व्यक्त की है।

गुरुवार को सुबह से बदली के साथ धूप भी निकली और दोपहर को 15 मिनट तेज बारिश हुई। अचानक बारिश से शहर तरबतर हो गया। सड़कों पर पानी भर गया और यातायात थोड़ी देर के लिए थम गया, लेकिन 15 मिनट बाद फिर आवाजाही शुरू हो गई। बुधवार को बस्तर सहित कई स्थानों में हल्की से मध्यम वर्षा हुई। प्रदेश में सर्वाधिक तापमान माना और बिलासपुर में 36 डिग्री रहा।

उमस से बेहाल लोग

प्रदेश में आर्द्रता लगातार बढ़ रही है। गुरुवार को यहां 70 फीसदी आर्द्रता रिकॉर्ड की गई। इसके चलते लोग उमस से परेशान हैं और रात की नींद भी हराम हो गई है। अभी तक यहां जोरदार बारिश नहीं होने के कारण उमस का अहसास हो रहा।

लालपुर केन्द्र के मौसम विज्ञानी चंद्रकांत मोहदीवाले ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है, जिसके असर से दो दिनों में कहीं-कहीं पर भारी से अति भारी वर्षा होने की संभावना है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close