रायपुर(ब्यूरो)। राशन कार्ड निरस्तीकरण के मामले में मुख्य विपक्षी कांग्रेस के सदस्यों ने मंगलवार को खाद्य मंत्री पुन्नूलाल मोहले को घेरा। इस मुद्दे पर प्रश्न काल के दौरान मंत्री के जवाब से असंतुष्ट होकर कांग्रेस सदस्यों ने सदन से बहिगर्मन किया और बाद में कांग्रेस सदस्यों ने स्थगन प्रस्ताव भी लाया।

प्रश्नकाल में कांग्रेस विधायक लखेश्वर बघेल ने बस्तर संभाग में प्रचलित राशन कार्डों के बारे में पूछा। जवाब में खाद्य मंत्री ने बताया कि बस्तर संभाग में वर्ष 2014 में मई तक तीन हजार 845 राशनकार्ड जांच के बाद निरस्त किए गए हैं। जून 2014 से प्रचलित राशन कार्ड जांच अभियान में बस्तर संभाग में सात लाख 95 हजार 130 राशनकार्डों का सत्यापन किया जा चुका है। जांच अभियान प्रावधिक रूप से अपात्र पाए गए राशन कार्डों पर दावा आपत्ति की प्रक्रिया चल रही है।

विधायक अमरजीत भगत के प्रश्न के उत्तर में खाद्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश में 18 लाख 75 हजार बीपीएल राशनकार्ड, 17 लाख 45 लाख मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना के राशन कार्ड तथा 18 लाख 15 हजार एपीएल राशन कार्ड जारी किए गए थे। अप्रैल व मई 2014 में 40 हजार 069 राशन कार्ड अपात्र राशन कार्ड निरस्त किए गए हैं। अमरजीत भगत ने कहा कि चुनाव के समय आपकी पार्टी के लोगों ने लोगों को प्रभावित करने के लिए राशन कार्ड बनवाए। इनमें प्रदेश स्तर के नेता भी शामिल थे। गरीबों के राशन कार्ड निरस्त किए जा रहे हैं।

कांग्रेस विधायक सत्यनारायण शर्मा ने दुर्ग, राजनांदगांव और बिलासपुर जिले में निरस्त किए गए राशन कार्डों के बारे में जानकारी चाही। उन्होंने पूछा कि क्या राशन कार्ड बनाने को लेकर अधिकारियों की उच्च स्तरीय बैठक हुई थी? बैठक के बाद सभी के राशन कार्ड बनाने के निर्देश दिए गए थे? खाद्य मंत्री ने कहा कि यह विषय बैठक का नहीं है। ी शर्मा ने इस विषय को प्रश्न संदर्भ समिति को सौंने की बात कही। सदस्य अमित जोगी ने मुख्यमंत्री ने दिल्ली में योजना आयोग की बैठक में गरीबों की संख्या तीस लाख बताई थी, लेकिन यहां 70 लाख राशन कार्ड बन गए, यह कैसे हुआ? विधायक विमल चोपड़ा ने कहा कि महासमुंद जिले में सबसे अधिक एक लाख 25 हजार राशन कार्ड निरस्त किए गए हैं। विधायक बृहस्पति सिंह ने बलरामपुर जिले में उत्तरप्रदेश के पांच हजार लोगों के नाम से राशन कार्ड बना दिए गए हैं, जबकि छत्तीसगढ़ के हजारो गरीबों के राशन कार्ड निरस्त किए जा रहे हैं। खाद्य मंत्री की ओर से कोई जवाब नहीं आने पर कांग्रेस सदस्य सत्यनारायण शर्मा ने सदन से बहिर्गमन की घोषणा की।

पौन दस लाख राशन कार्ड अपात्र

खाद्य मंत्री ने बसपा विधायक केशव चंद्रा के सवाल के लिखित जवाब में बताया कि प्रदेश में खाद्य एवं सुरक्षा पोषण सुरक्षा अधिनियम 2012 के अंतर्गत 2013 में 17.02 लाख अंत्योदय, 48.15 लाख प्राथमिकता, 4.29 लाख सामान्य व नौ हजार 358 निःशक्तजन राशन कार्ड जारी किए। जून से प्रारंभ जांच अभियान में जुलाई तक 58 लाख 72 हजार अंत्योदय एवं प्राथमिकता वाले राशन कार्डों में से 48 लाख 94 हजार राशनकार्डधारी परिवार पात्र पाए गए हैं।