रायपुर। Raipur News: छत्तीसगढ़ में कोरोना संकट के दौरान सड़क दुर्घटना के मामलों में तेजी से कमी आई, लेकिन जैसे ही शहरों को अनलाक किया गया, सड़क दुर्घटनाएं तेजी से बढ़ भी गई हैं। अनलाक में सड़क दुर्घटना में शराब के नशे में सबसे ज्यादा दुर्घटनाएं हुईं। छत्तीसगढ़ पुलिस ने सड़क दुर्घटना के कारणों की समीक्षा की तो पता चला कि अनलाक के विभिन्न चरणों में तेज गति से गाड़ी चलाने, खतरनाक ढंग से वाहन चलाने, शराब सेवन कर वाहन चलाने, बिना हेलमेंट, बिना सीट बेल्ट वाहन चलाने के कारण सड़क दुर्घटनाओं में वृद्घि हुई है। पिछले साल की तुलना में अगस्त और सितंबर में सड़क दुर्घटना और मौत में वृद्धि हुई है।

छत्तीसगढ़ में वर्ष 2020 के प्रथम नौ माह (जनवरी से सितंबर) की सड़क दुर्घटना में पिछले वर्ष के प्रथम नौ माह की तुलना में 23.71 प्रतिशत तथा सड़क दुर्घटना से मृत्यु में 17.63 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई। राज्य में कुल आठ हजार 75 सड़क दुर्घटनाएं हुईं, जिनमें से तीन हजार 158 व्यक्तियों की मृत्यु और सात हजार 513 व्यक्ति घायल हुए।

यही नहीं, इसमें से दो हजार 903 लोग गंभीर रूप से घायल हुए। 486 गंभीर चोट की सड़क दुर्घटना और तीन 893 सामान्य चोट की घटना में घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उनका इलाज किया गया। 793 दुर्घटना में कोई चोट नहीं आई है।

दुर्घटना में प्रभावित दस हजार 671 व्यक्तियों में से तीन हजार 158 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है एवं 684 व्यक्तियों को गंभीर चोट के कारण अस्पताल में दाखिल किया गया। 6829 व्यक्तियों को सामान्य चोट के कारण अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता नहीं हुई।

आदिवासी बहुल जिलों में बढ़ीं मौतें

आदिवासीबहुल छोटे जिलों में सड़क दुर्घटना में वृद्धि हुई है। पिछले वर्ष की तुलना में प्रथम नौ माह में मुंगेली में 17.46 प्रतिशत, दंतेवाड़ा में 33.3 प्रतिशत, बीजापुर 46.15 प्रतिशत एवं नारायणपुर में 3.84 प्रतिशत सड़क दुर्घटना मृत्यु दर की वृद्घि हुई है।

शाम चार से रात नौ बजे के बीच सबसे ज्यादा मौतें

शाम चार से रात नौ बजे के बीच 24.56 फीसद (767 व्यक्ति) व्यक्तियों की मृत्यु हुई। राष्ट्रीय राजमार्ग में 27.35 फीसद (864 व्यक्ति), राजकीय राजमार्ग में 21.65 फीसद (684 व्यक्ति) और अन्य मार्गों में 50.98 फीसद (1610 व्यक्ति) व्यक्तियों की मृत्यु हुई। तेजगति एवं लापरवाहीपूर्वक वाहन चलाने से 77.42 फीसद (2445 व्यक्ति) लोगों की मृत्यु हुई है।

13 फीसद से ज्यादा पैदल चलने वालों की मौत

वर्ष 2020 में सड़क दुर्घटनाओं में 67.82 फीसद (2142 व्यक्ति) दोपहिया वाहन उपयोगकर्ता, 3.29 फीसद (104 व्यक्ति) सायकल, 3.86 फीसद (122 व्यक्ति) जीप, कार, टैक्सी का उपयोग कर रहे थे। 4.52 फीसद (143 व्यक्ति) ट्रेक्टर, 2.40 फीसद (76 व्यक्ति) ट्रक और 13.67 फीसद (432 व्यक्ति) पैदल चलने वालों की मौत हुई है। गाड़ी में मैकेनिकल खराबी, गलत पार्किंग, रिफ्लेक्टर नहीं होने के कारण 39 मामलों में 46 व्यक्तियों की मौत हुई।

फैक्ट फाइल

गाड़ी - मौत

दुपहिया वाहन- 38.72 फीसद (1223 व्यक्ति)

जीप, कार, टैक्सी-09.75 फीसद (308 व्यक्ति)

ट्रैक्टर -8.07 फीसद (255 व्यक्ति)

ट्रक, ट्रेलर-16.97 फीसद (536) व्यक्ति

प्रदेश में सड़क दुर्घटना, हिट एंड रन के मामले में पीड़ित परिवारजनों को समय पर अधिकृत आइएनएस इंश्योरेंस कंपनी से समन्वय कर क्षतिपूर्ति राशि दिलाई गई। जिला स्तर पर लंबित प्रकरणों की समीक्षा कर पीड़ितों को यथाशीघ्र समुचित सहायता, क्षतिपूर्ति के लिए निर्देशित किया गया है। डीएम अवस्थी, डीजीपी छत्तीसगढ़

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस