रायपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। राजधानी के क्षेत्रीय परिवहन विभाग (आरटीओ) के परिसर पर अब तीसरी आंख नजर रखेगी। आगजनी की घटना के बाद परिसर में चार सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। साथ ही 24 घंटे सुरक्षा गार्ड की तैनाती की गई है। दरअसल, पिछले दिनों दो वाहनों में आगजनी की घटना को परिवहन विभाग मुख्यालय ने गंभीरता से लेते हुए सीसीटीवी, सुरक्षा गार्ड तैनात करने और हाइमास्ट लाइट लगाने के निर्देश दिए थे। साथ ही प्रदेशभर के सभी आरटीओ और एआरटीओ में सुरक्षा के प्रबंध करने के निर्देश दिए थे। बताया जाता है कि परिवहन विभाग के सभी दफ्तरों में सीसीटीवी लगाने की कवायद चल रही है।

बिना अनुमति प्रवेश पर प्रतिबंध

परिवहन आयुक्त के निर्देश पर आरटीओ कार्यालय में कार्यालीन अवधि के बाद बिना अनुमति प्रवेश पर प्रतिबंध लगाया गया है। उल्लंघन करने पर विभागीय अधिकारियों और पुलिस को सूचना देने के निर्देश सुरक्षाकर्मियों को दिए गए है। बता दें कि सभी आरटीओ कार्यालय में कामकाज की पारदर्शिता लाने के लिए दफ्तरों में कैमरे लगाए गए है। लेकिन, परिसर की सुरक्षा के लिए कोई इंतजाम नहीं किए गए थे।

रिकार्डिंग की व्यवस्था

सीसीटीवी कैमरे में फुटेज को सुरक्षित रखने के लिए साफ्टवेयर फिट किया गया है। इसके साथ ही निगरानी के लिए अलग कक्ष बनाया गया है। यहां महीनेभर की रिकार्डिंग सुरक्षित रहेगी। नाइट विजन युक्त कैमरे से रात के समय भी आसानी से पूरा इलाका दिखाई देगा।

चार नाइट विजन कैमरे लगाए गए

रायपुर आरटीओ शैलाभ साहू ने कहा, आरटीओ कार्यालय परिसर की निगरानी के लिए चार नाइट विजन युक्त सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। वही, सुरक्षा गार्ड की तैनाती की गई है। जल्दी ही परिसर में हाइमास्ट लाइट लगाई जाएगी।

परिजनों को समय पर मिलें मुआवजा राशि

राजधानी के कलेक्ट्रेट परिसर स्थित रेडक्रास सभाकक्ष में कलेक्टर सौरभ कुमार की मौजूदगी में समय सीमा की बैठक हुई। कलेक्टर ने अधिकारियों को धान के बदले अन्य फसलों को प्रोत्साहित करने तथा प्राकृतिक आपदा से मृतक के परिजनों को सही समय पर मुआवजा देने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने खरीफ फसल की तैयारी, बीज व खाद भंडारण की भी जानकारी ली। साथ ही उन्होंने जिले के सोसाइटी में गोदाम बनाए जाने पर भी चर्चा की। कलेक्टर ने मुख्यमंत्री जन चौपाल, कलेक्टर जन चौपाल में प्राप्त आवेदनों के निराकरण को सर्वाेच्च प्राथमिकता देने तथा लंबित प्रकरणों का निराकरण तत्काल करने के निर्देश दिए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों और अनुविभागीय दंडाधिकारियों को जल जीवन मिशन के कार्यों को प्राथमिकता देने को कहा।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close