सतीश पांडेय। रायपुर। आनलाइन गेमिंग महादेव और रेड्डी अन्ना एप का संचालन दुबई से बैठकर देशभर में फैलाने वाले सट्टा किंग सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल ने रायपुर, भिलाई से निकलकर पहले मुंबई, फिर दुबई में आनलाइन सट्टा कारोबार फैलाया। पांच साल के भीतर इस कारोबार को बढ़ाने के लिए दोनों ने मिलकर आइटी और मोबाइल एक्सपर्ट की टीम बनाई है।

पुलिस की तफ्तीश में यह तथ्य सामने आया है कि इन सटोरियों ने भिलाई, दुर्ग, रायपुर, बिलासपुर और तिल्दा के 200 युवाओं की एक्सपर्ट टीम बनाई है। इनमें से अधिकतर मोबाइल दुकानों में काम करते हैं। यह टीम ही आनलाइन सट्टे का कारोबार संभाल रही है। खबर यह भी है कि सौरव, रवि की दोस्ती में दरार आ गई। दोनों अलग होकर अब दुबई और कतर से सट्टे का कारोबार लगातार फैलाकर देश के बड़े बुकी बन गए हैं। महादेव एप, आयरन बुक के नाम से इनका काम गल्फ कंट्री में चल रहा है।

पुलिस के जानकार सूत्रों ने बताया कि दुर्ग जिले के रहने वाले खाईवाल सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल दुबई में सेटल होकर आज बड़े बुकी बन चुके हैं। छत्तीसगढ़ के अलावा बाकी राज्यों से कटिंग लेने के लिए उन्होंने 200 से अधिक युवाओं की टीम को अलग-अलग समय में दुबई में बुलवाकर वहां एक से डेढ़ लाख का पैकेज दे रहे है। पतासाजी की गई तो पता चला कि जयस्तंभ चौक, जीई रोड स्थित मोबाइल बाजार में काम करने वाले 20 से अधिक युवक काम छोड़कर गायब हैं। ये युवक दुकानों में काम करने के साथ ही आनलाइन सट्टा लगाया करते थे। इसी दौरान दुर्ग के खाइवालों के संपर्क में आकर उनके एजेंट बने और कटिंग लेने लगे।

हवाला और गोल्ड के जरिए करोड़ों का हेर-फेर

पुलिस के मुताबिक भिलाई के आकाशगंगा के एक सराफा कारोबारी ने हवाला के जरिए करोड़ों रुपये का हेर-फेर करने की है। इसके साथ निवेशकों को पैसा गोल्ड में तब्दील करके कोलकाता के रास्ते देश के अलग-अलग शहरों में पहुंचाया जा रहा है।

रेड्डी अन्ना से हाथ मिलाकर फैलाया कारोबार

सट्टा किंग सौरभ, रवि ने हैदराबाद के रेड्डी अन्नाा एप के संचालक से हाथ मिलाने के बाद अपना नेटवर्क महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, ओडिशा समेत 10 राज्यों में फैला लिया है। इन राज्यों के कई शहरों में सेटअप तैयार करके आइडी आपरेट करने वालों को बैठाया गया है। आइडी डिस्ट्रीब्यूशन, बैंक खाता जुटाने बाकायदा अलग-अलग टीम तैयार है। दुर्ग, जगदलपुर, उज्जैन, पूना जैसे शहरों में पूरा सेटअप लगाया हुआ है। यही नहीं, रेड्डी अन्ना से दोबारा करार कर दोनों धड़ल्ले से बुकियों को आइडी बांट रहे हैं। करार के तहत दोनों ने अपने-अपने क्षेत्र में व्यवसाय करने की सुलह की थी। बाद में एक-दूसरे के इलाके में कारोबार करने से उनके बीच विवाद हुआ। वर्तमान में अलग-अलग होकर धर्मेंद्र उर्फ डीके और गोरे के माध्यम से रेड्डी अन्नाा और शिवाबुक की आइडी को प्रमोट कर रहे हैं।

क्रिकेट से शुरू की कटिंग, अब आनलाइन गेम में दांव

महादेव बुक आनलाइन नेटवर्किंग पर चल रहा है। क्रिकेट मैच से खाइवालों ने गेम लेना शुरू किया। उसके बाद फुटबाल, हाकी और बैडमिंटन तक के खेलों में दांव लेने लगे। अब उन्होंने मोबाइल पर आनलाइन गेम शुरू कर दिया है। आरोपित लाइव मैच एप के माध्यम से आइडी बेचते हैं। उसमें महादेव बुकी का विज्ञापन आता है, जिसमें उनका नंबर दिया जाता है। उन नंबर पर मैसेज करने पर पूरा डिटेल आता है।

पुलिस को इनकी तलाश

सट्टे के खेल में शामिल डायमंड एप के संचालक मन्नाू, भाटापारा के अनिस, आरंग के टामी, नागपुर के रिंकू, ओडिशा से महादेव एप को टक्कर दे रहे पिंशू समेत अन्य बड़े खाईवालों की तलाश पुलिस को है। ये लोग गोवा में कैसिनों का टेबल बुक कर यहां से रसूखदार, बिल्डरों को पैकेज पर ले जाकर सट्टा, जुआ खिलवाते हंै।

एएसपी सिटी और एंटी क्राइम एवं साइबर यूनिट अभिषेक माहेश्वरी ने कहा, महादेव, रेड्डी अन्नाा एप से आनलाइन सट्टा खिला रहे आरोपितों के बारे में कई अहम जानकारी सामने आई है। पुलिस के राडार में अलग-अलग शहरों के 20 से अधिक बड़े खाईवाल है। सभी से पूछताछ के बाद उनके लिंक को खंगाला जाएगा। उसके बाद आगे की कार्रवाई करेंगे।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close