रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

नगर निगम ने शास्त्री बाजार में आने वाले हजारों खरीदारों के लिए सिरदर्द बन चुके मुक्कड़ को मंगलवार को बंद कर दिया। मंगलवार से यहां कचरा डंप होना बंद हो गया। अब आपके जहन में सवाल यह उठेगा कि आखिर यहां से रोजाना निकलने वाला 15-20 टन कचरा कहां जाएगा? इसके लिए भी निगम ने योजना बना रखी है। निगम द्वारा यहां दुकानदारों को बताया गया कि कचरा फेंकने के बजाय गाड़ियों में डालें। गाड़ी दिन में चार बार कचरा उठाएगी। गाड़ी ऐसी जगह खड़ी की जाएगी, जो दुकानदारों की पहुंच में हो। निगम ने इस जगह गार्डन बनाने निर्णय लिया है।

निगम में स्वास्थ्य अधिकारी एके हलदार ने बताया कि निगमायुक्त शिव अनंत तायल के निर्देश पर यह व्यवस्था लागू की गई है। उनका कहना है कि निगम अफसरों ने भी यह महसूस किया है कि यह कचरा डंपिंग जोन सही जगह पर नहीं था। इससे लोगों को खासी परेशानियां होती थीं। लोग मुंह में कपड़ा रखकर निकलते थे। कार, बाइक से गुजरने वाले भी मुंह को कवर करके ही निकलते थे।

यहीं प्रस्तावित है हाइजेनिक मार्केट- शास्त्री बाजार में प्रदेश का पहला हाइजीनिक मार्केट (सब्जी बाजार) मल्टीलेवल कॉम्प्लेक्स प्रस्तावित है। मल्टीलेवल पार्किंग की सुविधा भी होगी।यह प्रदेश का पहला एनर्जी सेविंग मार्केट होगा। स्मार्ट सिटी लिमिटेड की कंसल्टेंसी एजेंसी टाटा ने 100 करोड़ रु. का प्रोजेक्ट बनाया था। पहले फेज की लागत करीब 43 करोड़ रुपये आंकी गई थी। उसे रद कर 12.43 करोड़ रुपये का नया टेंडर जारी कर दिया गया है।