सतीश पांडेय, रायपुर (नईदुनिया)। शारदा चौक-तात्यापारा रोड के चौड़ीकरण की उम्मीद अब बंध गई है। यह रोड राजधानी के व्यस्ततम स्थल जयस्तंभ से जुड़ी हुई है। सरकार से नगर निगम को 30 करोड़ रुपये का बजट मिलते ही चौड़ीकरण का काम शुरू कर दिया जाएगा। पिछले 15 साल से इस रोड के चौड़ीकरण का काम अटका हुआ है। इसे लेकर पिछली भाजपा सरकार में करीब आधा दर्जन बार प्रस्ताव भेजा गया था। निगम स्तर पर भी सड़क चौड़ीकरण के लिए शासन से पैसे की मांग की गई थी पर न पैसा मिला और न ही योजना एक कदम भी आगे बढ़ सकी, लेकिन पिछले महीने नगर निगम के बजट में इसे शामिल कर 30 करोड़ का प्रविधान करने के बाद शहरवासियों को उम्मीद है कि एक-दो महीने के भीतर सड़क चौड़ीकरण का काम शुरू हो जाएगा।

  • 30 करोड़ मिलते ही शारदा चौक-तात्यापारा रोड चौड़ीकरण का काम होगा शुरू
  • वर्तमान में सड़क की चौड़ाई 30 से 50 फीट तक, सड़क के दोनों ओर 20-20 फीट बढ़ेगी चौड़ाई

नईदुनिया टीम ने रविवार को शारदा चौक-तात्यापारा सड़क चौड़ीकरण मुद्दे को लेकर व्यापारियों और आम लोगों से बातचीत की तो उनका कहना था कि 600 मीटर तक सड़क चौड़ीकरण हो जाए तो राजधानी में रोजाना करीब चार से पांच लाख लोगों को यातायात जाम की समस्या से राहत मिलेगी। वर्तमान में तात्यापारा के 300 मीटर बाद सड़क संकरी होने की वजह से यहां बाटल नेक बन जाता है, जिसके कारण दिन भर हजारों लोगों को रोज जाम में फंसना पड़ता है। सड़क चौड़ी करने के लिए 30 करोड़ का मुआवजा चार साल पहले रखा गया था। अभी इस बजट में यह संभव नहीं है। दरअसल व्यापारी भूमि अधिग्रहण कानून के मुताबिक ही मुआवजा देने की मांग कर रहे हंै। ऐसे में बजट से कहीं ज्यादा मुआवजा देना पड़ सकता है। वहीं निगम के अधिकारियों का कहना है कि पुराने सर्वे के अनुसार सड़क चौड़ीकरण के दायरे में आने वाले करीब 20 व्यापारियों, मकान मालिकों को दस करोड़ रुपये मुआवजा देना है। सर्वे का अवलोकन कर मुआवजा देने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाएगा।

दोनों ओर 20-20 फीट चौड़ा

निगम के अधिकारियों ने बताया कि वर्तमान में सड़क की चौड़ाई कहीं 30, 35, 40, 45 और 50 फीट है। दोनों ओर कम से कम 20-20 फीट इसकी चौड़ाई बढ़ानी है।

तीन महापौर बदले पर अटका रहा चौड़ीकरण, अब जगी उम्मीद

शहर की लाइफ लाइन कहे जाने वाले जीई रोड स्थित शारदा-चौक से आमापारा तक रोड चौड़ीकरण का प्रस्ताव साल 2006-07 में तैयार हुआ था। महापौर सुनील सोनी के कार्यकाल के अंतिम दिनों में आमापारा से तात्यापारा तक पहले चरण का चौड़ीकरण किया भी गया। आगे का काम मुआवजे को लेकर अटका रहा। इसके बाद महापौर डा. किरणमयी नायक और प्रमोद दुबे महापौर बने। दोनों ने अपने कार्यकाल में चार से पांच बार शासन को प्रस्ताव भेजा। यही नहीं, राज्य सरकार के अनुपूरक बजट में फंड मिलने की उम्मीद जताई थी पर यह नहीं हुआ।

भाजपा के दो पूर्व दिग्गज मंत्रियों ने भी इसके लिए प्रयास किए। फिर भी चौड़ीकरण की योजना एक कदम भी आगे नहीं बढ़ी। कांग्रेस की नई सरकार आने के बाद महापौर एजाज ढेबर ने प्रयास तेज कर निगम की बजट में 30 करोड़ का प्रविधान किया, तब जाकर सड़क चौड़ीकरण का रास्ता साफ हुआ।

क्या कहते हैं रहवासी

-सड़क चौड़ीकरण होने से शहर की बड़ी आबादी को राहत मिलेगी। यह योजना जल्द से जल्द शुरू करने के लिए निगम को शासन बजट उपलब्ध कराए। -सुदाम धड़ा, होटल संचालक

-15 साल पुरानी योजना अब जाकर पूरी होगी। यह शहर के लिए बड़ी सौगात है। सड़क चौड़ीकरण होने का लाभ लाखों लोगों को मिलेगा। -हितेंद्र खेतपाल, व्यापारी

-शारदा-चौक से आमापारा तक रोड चौड़ीकरण का काम किसी-न-किसी वजह से रुका था। अब निगम के बजट में शामिल होने से काम शुरू होने की उम्मीद है। आने वाले दिनों में व्यापारियांे के साथ शहरवासियों को जाम में फंसने से छुटकारा मिलेगा। -जितेंद्र रेलवानी, व्यापारी

-आखिरकार शहर की पुरानी योजना शारदा चौक-तात्यापारा रोड के चौड़ीकरण का रास्ता साफ हो गया है। सड़क चौड़ी होने से हम सभी को आने-जाने में काफी सुविधा होगी। -ललित भिंडे

शारदा चौक-तात्यापारा रोड के चौड़ीकरण के लिए निगम के बजट में 30 करोड़ रुपये का प्रविधान किया गया है। शासन से बजट राशि मिलते ही काम शुरू कराया जाएगा। अधिकारियों को निर्देशित किया गया है कि चार साल पुरानी सर्वे रिपोर्ट को देखकर सड़क किनारे प्रभावितों से तीन चरणों में बैठक कर मुआवजे की दर तय करें।-एजाज ढेबर, महापौर

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close