04 दिसंबर, श्रवण शर्मा, 05, समय - 7.00 बजे, ज्ञान

फोटो - संकर्षण महाराज

रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

हम सब प्रकृति से जुड़े हुए हैं। हमारे जीवन में पेड़-पौधे, जल, हवा, नदी, पर्वत, झरना सभी का महत्व है। प्रकृति की मेहरबानी के बिना पशु, पक्षी, जीव-जंतु, मनुष्य एक क्षण भी जीवित नहीं रह सकते। प्रकृति को बचाने के लिए ही भगवान श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अंगुली में उठाकर प्रकृति की पूजा करने का संदेश दिया था। उक्त बातें टिकरापारा सरस्वती शिक्षा मंदिर में चल रहे श्रीमद्भागवत कथा में गोवर्धन प्रसंग की व्याख्या करते हुए आचार्य संकर्षण महाराज ने कही।

महाराज ने श्रद्धालुओं से कहा कि प्रकृति का महत्व जानते-समझते हुए भी इंसान लापरवाही कर रहा है। पे़ड़ों को काटकर जंगल खत्म किया जा रहा है, गंदे नाले के पानी की निकासी पवित्र नदियों में करके नदियों को प्रदूषित किया जा रहा है। बड़े भवन, सड़कें बनाने के लिए पहाड़ों को काटा जा रहा है। यदि प्रकृति को नहीं बचाया गया तो मनुष्यों और जीव, जंतुओं के लिए सांस लेना दूभर हो जाएगा। प्रकृति बचाने के लिए जल का संरक्षण करो, वृक्ष लगाओ, बड़े-बड़े पहाड़ों में तोड़फोड़ मत करो। गोवर्धन अर्थात गो में वृद्धि करें। गो का अर्थ सरलता, सहनशीलता, अच्छाई है। गोवर्धन की पूजा करके भगवान ने संकेत दिए कि प्रकृति को संभालो, गलत परंपरा को बदल दो।

शांति और भक्ति के लिए सज्जान ही नहीं दुर्जन भी तरसते हैं

किसी की शांति छीन लेने से शांति की प्राप्ति नहीं होती । इसके लिए बुराई को समाप्त करना पड़ता है। सभी किसी न किसी वजह से परेशान है, सबको शांति चाहिए। लोभ में जाओगे तो शांति चली जाएगी। जब मोह नष्ट होता है, तब शांति की दृष्टि पड़ती है। दुर्गुण वस्त्र में लगे मैल की तरह है, जिसे साफ करने पर चरित्र में निखार आता है।

अहंकार का प्रतीक है कालिया नाग

उन्होंने कथा में बताया कि कालिया नाग अहंकार का प्रतीक है, कालिया नाग के हजारों फन हैं, इसी तरह अहंकार के भी हजारों रुप होते हैं। किसी को बाहुबल, किसी को ज्ञान, धन, पद का अहंकार होता है। कालिया नाग का मर्दन कर भगवान ने संकेत दिया कि अहंकार मत करो। कालिया नाग ने जब फन झुका लिया तब भगवान ने उसे जीवनदान दिया। इसी तरह जब अहंकार आए तो झुक जाना चाहिए। कथा के आयोजक शरद इंद्राणी एवं नेहा अभिषेक दुबे ने बताया कि 5 दिसंबर को रुक्मणी विवाह की व्याख्या होगी। कथा 7 दिसंबर तक चलेगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना