आनंदराम साहू, रायपुर। दक्षिण कोशल अर्थात प्राचीन छत्तीसगढ़ की राजधानी श्रीपुर (वर्तमान में सिरपुर) शिक्षा का सबसे बड़ा केंद्र था, ऐसा कहना है कि पुरातत्ववेत्ता पद्यश्री अरूण कुमार शर्मा का। सिरपुर में टीलों की खोदाई से मिले पुरावशेष इसको प्रमाणित कर रहे हैं। बीते कुछ वर्ष पहले तक स्कूल शिक्षा की किताबों में बच्चों को नैतिक शिक्षा का पाठ पढ़ाने पंचतंत्र की कहानियों का समावेश किया गया था।

हजारों वर्ष पहले पंडित विष्णु शर्मा द्वारा राजकुमारों को सुनाई गई ये कहानियां हर युग में प्रासंगिक और सामयिक हैं। बच्चे किताबों में पंचतंत्र की कहानियों को पढ़कर जो शिक्षा ले रहे हैं, वैसी शिक्षा आज से करीब ढाई हजार साल पहले सिरपुर में बौद्ध विहारों में भी दी जाती थी। तब पत्थरों को तराशकर उसमें चित्रांकन किया गया था। इसका मुखाग्र वर्णन करके और इन पाषाण प्रतिमाओं को दिखाकर बौद्ध भिक्षुकों और यहां आने वाले शिक्षार्थियों को उपदेश दिया जाता था।

सिरपुर शिक्षा का प्राचीन और सबसे बड़ा केंद्र

सिरपुर में तीवरदेव विहार के प्रवेश द्वार पर चित्रित पंचतंत्र की कथाओं वाली इन मूर्तियों से इसका प्रमाण मिलता है। पुरावेत्ता अरूण कुमार शर्मा का कहना है कि सिरपुर में टीलों की खोदाई से दो मंजिला बौद्ध विहार मिला है, जबकि नालंदा में एकमंजिला विहार मिला। इससे स्वत: स्पष्ट है कि सिरपुर शिक्षा का प्राचीन और सबसे बड़ा केंद्र रहा है।

आकृति देखकर बरबस ही याद आती है पंचतंत्र की कहानियां

सिरपुर में लाल पत्थरों पर उकेरी गई आकृतियों को अभी भी स्पष्ट देखा जा सकता है। इसे देखकर बच्चों-बड़ों को पंचतंत्र की कहानियां बरबस ही याद आती है। पुरातत्वविदों का ऐसा मानना है कि उस समय के लोग यह भलीभांति जानते थे कि हस्त लिखित पाण्डुलिपियां तो नष्ट हो सकती हैं, लेकिन पत्थरों पर कोई संदेश अथवा आकृति बनाई जाए तो वह सहस्त्राब्दी तक अमिट छाप छोड़ जाएगी। उस दौर के राजा-महाराजाओं ने इसी सोच के चलते पत्थर तराशने वाले कारीगरों से पंचतंत्र की कहानियों को पत्थरों पर अंकित करवाया होगा।

चतुराई के साथ जीवन जीने की प्रेरणा

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से करीब 90 किलोमीटर दूर महासमुंद जिले के महानदी तट पर स्थित है सिरपुर। यहां पत्थरों पर उकेरी गई आकृतियों को देखकर पंचतंत्र की कहानियां वर्तमान समय में भी चतुराई के साथ जीवन जीने की प्रेरणा देती है। यहां अनगिनत पुरावशेषों में से एक हैं तीवरदेव विहार।

मगरमच्छ की पीठ पर सवार बंदर की कलाकृति खींचती है ध्यान

इस विहार के प्रवेश द्वार पर मगरमच्छ की पीठ पर सवार बंदर को नदी पार करने के लिए जाते हुए बंदर को दृश्यांकित किया गया है। बंदर और मगरमच्छ की दोस्ती और मगरमच्छ की धोखाधड़ी से चतुराई के साथ बंदर के द्वारा जान बचा लेने की कहानी का संदेश इस चित्रांकन को देखकर बरबस ही आंखों के सामने प्रदर्शित होने लगता है। इस दृश्य में मौत को करीब देखकर भी नहीं डरने और समझदारी के साथ अपनी जान बचाने का संदेश दिया गया है।

सोलह साल पहले हुई थी इस टीला की खोदाई

पुरातत्ववेत्ता अरूण कुमार शर्मा बताते हैं कि उन्होंने बोधिसत्व नागार्जुन स्मारक संस्थान अनुसंधान केन्द्र के आग्रह पर उनके व्यय पर वर्ष 2003 में इस विहार को टीलों की खोदाई से ढूंढ निकाली थी। खोदाई में मिले तीवरदेव विहार के मुख्य प्रवेश द्वार पर पंचतंत्र की अनेक कहानियों को पत्थरों पर तराशा चिन्हांकन प्रदर्शित किया गया है।

छठीं शताब्दी के मध्य में निर्माण के प्रमाण

इसे भारत सरकार के भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण रायपुर मंडल द्वारा संरक्षित घोषित किया गया है। अभिलेखीय प्रमाण के अनुसार तीवरदेव विहार का निर्माण छठीं शताब्दी के मध्य में तत्कालीन सोमवंशी शासक तीवरदेव के समय में हुआ था। जो उनके भ्राता हर्षगुप्त और पौत्र महाशिवगुप्त बालार्जुन के समय में भी उपयोग में रहा होगा, पुरातत्वविदों द्वारा ऐसा अनुमान लगाया जाता है।

Posted By: Anandram Sahu

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020