रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना काल के समय से थानों में जाम हो चुकी फाइलें एक बार फिर से खुलेंगी। ऐसे प्रकरण जिसमें आरोपितों को दूसरे राज्यों से जुडे हैं उनकी धरपकड़ का अभियान तेज होगा। चिटफंड, चोरी और दुष्कर्म के मामलों पर तत्काल कार्रवाई करने कहा है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रशांत अग्रवाल ने थानेदारों की बैठक लेकर सख्त निर्देश दिए हैं। सुबह ग्यारह बजे आयोजित बैठक में एसएसपी ने पुरानी पेंडेंसी मामलों का निपटारा करने को कहा। थानों में दूसरे राज्यों और शहरों से संबंधित मामलों में सबसे ज्यादा चिटफंड के मामले हैं।

बताया यह भी जा रहा है चार से पांच बड़ी कंपनियां ऐसे हैं इसमें आरोपियों को दूसरे राज्यों में पकड़ा गया है।उन्हें रायपुर लाने की प्रक्रिया लंबे समय से लंबित रह गई है। ऐसे मामलों में ट्रांजिट रिमांड लेकर आरोपियों को रायपुर के मामलों में गिरफ्तार करने कहा। करीब डेढ़ घंटे की बैठक में पुलिस अधीक्षक ने अपराध की समीक्षा की।

इस दौरान ऐसे मामले जिसमें आरोपियों का पता नहीं है, उन मामलों में भी मुखबिर तैनात कर पेंडेंसी का निपटारा करने के लिए कहा। एसपी ने बैठक के दौरान थानेदारों को अपने-अपने क्षेत्र में सीसीटीवी फुटेज की व्यवस्था सुधारने के भी निर्देश दिए। मिशन सिक्योर के तहत शहर में लगाए गए कैमरा कई जगहों में बंद पड़े हुए हैं। अपराधिक घटना के बाद पुलिस को जांच में परेशानी हो रही है।

थानेदारों को निर्देश दिए गए आस-पास के संगठनों की मदद लेकर कैमरों की स्थिति में भी सुधार किया जाए। वारंट तामिली के मामलों में भी कार्रवाई की जरूरत है। कोरोना काल के दौरान स्थाई वारंट, अस्थाई वारंट के साथ गैरजमानतीय वारंट के ही एक हजार से ज्यादा मामले अभी भी पेंडिंग हैं। अब इन मामलों में भी कार्रवाई करने को कहा है। देहात के थानों में हो रही चोरी की घटनाओं पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने चिंता प्रकट करते हुए गश्त-पेट्रोलिंग बढ़ाने कहा। शहर में बढ़ते बाइक चोरी के केस में भी आरोपियों की धरपकड़ तेज करने के निर्देश दिए।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local