रायपुर। छत्तीसगढ़ के सरगुजा में भू-तापीय विद्युत संयंत्र (जियो थर्मल पावर प्लांट) की स्थापना की जाएगी। एक साल पहले विस्तृत अध्ययन और सर्वेक्षण करने का काम केंद्रीय सार्वजनिक उपक्रम राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम (एनटीपीसी) को दिया गया। एनटीपीसी विस्तृत परियोजना प्रतिवेदन (डीपीआर) बनाकर राज्य सरकार को देगा। इसके लिए राज्य सरकार और एनटीपीसी के बीच एमओयू भी हो चुका है। एनटीपीसी ने अभी डीपीआर बनाकर नहीं दिया है। प्रगति की समीक्षा के लिए इसी माह बैठक बुलाई गई है।

ऊर्जा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक सरगुजा संभाग के बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के तातापानी में यह संयंत्र स्थापित किया जाएगा। संयंत्र स्थापित करना फायदेमंद रहेगा या नुकसानदायक, इसका अध्ययन किया जा रहा है। सरगुजा संभाग के तातापानी के समीप भूगर्भ में गर्मजल पाया गया है। इसके प्रारंभिक अध्ययन में पावर प्लांट लगाने की संभावना पाई गई है। प्रस्तावित पावर प्लांट की क्षमता के आकलन के लिए और अधिक सर्वे-अनुसंधान की आवश्यकता है। एनटीपीसी अपने खर्च पर अनुसंधान सर्वे कर तातापानी में जियो थर्मल प्लांट की स्थापना के लिए डीपीआर बना रहा है। डीपीआर के आधार राज्य सरकार परियोजना को आर्थिक व तकनीकी रूप से वायबल होने का निर्णय लेगी और राज्य की विद्युत वितरण कंपनी उत्पादित बिजली का क्रय करेगी। एनटीपीसी इस परियोजना की स्थापना और संचालन बीओओ के आधार पर करेगा॥

समीक्षा इसी माह

'सरगुजा संभाग के तातापानी में भू-तापीय विद्युत संयंत्र स्थापित करने की संभावना तलाशने के लिए राज्य शासन और एनटीपीसी के बीच एमओयू हो चुका है। एनटीपीसी सर्वे के बाद डीपीआर बनाकर देगा। प्रगति की समीक्षा के लिए इसी महीने बैठक बुलाई गई है।'- एसके शुक्ला, सीईओ, क्रेडा