रायपुर। देश के समाजवादी आंदोलन से राजनीति में आई सुषमा स्वराज का छत्तीसगढ़ के तत्कालीन समाजवादी नेताओं से करीबी नाता था। सुषमा स्वराज 1977 में हरियाणा विधानसभा में विधायक चुनी गईं, उस समय जनता पार्टी से रायपुर ग्रामीण से रमेश वर्ल्यानी विधायक चुने गए थे। वर्ल्यानी ने बताया कि उस समय देशभर में चुने गए जनप्रतिनिधियों की समाजवादी विचारधारा के तहत ट्रेनिंग दी जाती थी। सुषमा स्वराज समाजवादी नेता जार्ज फार्नांडिज की करीबी थी।

उस समय विधायकों और सांसदों को संसदीय ज्ञान की ट्रेनिंग देने का जिम्मा मधु लिमये को दिया गया था। वर्ल्यानी ने बताया कि सुषमा स्वराज और उनकी ट्रेनिंग मधु लिमये के घर में एक ही बैच में हुई थी। सुषमा शुरू से ही अच्छी वक्ता थी और विचारधारा के प्रति समर्पित थी। रमेश वर्ल्यानी ने बताया कि 1980 में जब जनता पार्टी टूटी तो कुछ लोग भाजपा और कुछ लोग कांग्रेस के साथ जुड़कर राजनीति करने लगे।

सुषमा ने भाजपा के साथ सक्रिय राजनीति शुरू की। भाजपा में जाने के बाद भी वे जार्ज फार्नांडिज के घर जाती थी और संसदीय मुद्दों पर चर्चा करती थी। अविभाजित मध्यप्रदेश से आने के कारण जार्ज के घर पर उन लोगों की भी मुलाकात होती थी।

त्रिपुरा के राज्यपाल रमेश बैस भी सुषमा स्वराज के करीबी नेताओं में से थे। बैस ने बताया कि एक सप्ताह पहले ही सुषमा स्वराज से मुलाकात हुई थी। उन्होंने उस समय कहा था कि लोकसभा का टिकट कटने से थोड़ा दुख तो हुआ था, लेकिन राज्यपाल बनने पर खुशी हैं। मुझे उम्मीद है कि आप बेहतर राज्यपाल साबित होंगे।

राज्यपाल बैस ने बताया कि सुषमा स्वराज एक बड़ी बहन की भूमिका में रहीं। सूचना प्रसारण मंत्रालय में जब वे राज्यमंत्री थे, तब सुषमा में अधिकारियों को साफ निर्देश दिया था कि छत्तीसगढ़ से जुड़ा जो भी निर्णय बैस लेंगे, उसे फाइनल माना जाए।

भिलाई स्टील प्लांट के अस्पताल का निजी क्षेत्र में देने के दौरान जब उन्होंने उसे सुपरस्पेशलिटी बनाने का सुझाव दिया था, उस समय सुषमा में कहा था कि घबराते क्यों हो, रायपुर को एम्स देने जा रही हूं। पहला एम्स रायपुर में घोषित हुआ और सुषमा भूमिपूजन में भी आईं।

एकात्म परिसर में आज श्रद्धांजलि, दीप कमल ने जारी किया वीडियो

छत्तीसगढ़ में दिवंगत भाजपा नेता सुषमा स्वराज को एकात्म परिसर में गुरुवार शाम को श्रद्घांजलि दी जाएगी। रायपुर जिलाध्यक्ष राजीव अग्रवाल ने बताया कि श्रद्घांजलि सभा में पार्टी के नेता, पदाधिकारी व कार्यकर्ता सहित आमजन शामिल होंगे। वहीं, सुषमा स्वराज की छत्तीसगढ़ यात्रा, उनकी छत्तीसगढ़ को सौगात को लेकर दीपकमल ने एक वीडियो जारी किया है।

यह वीडियो प्रदेशभर में भाजपा और मोर्चा प्रकोष्ठ के पदाधिकारी जनता तक पहुंचाएंगे। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का अस्थि कलश छत्तीसगढ़ के भाजपा नेताओं को सुषमा स्वराज ने ही सौंपा था। इस दौरान तत्कालीन प्रदेश अध्यक्ष धरमलाल कौशिक सहित पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह, राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय मौजूद थीं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना