रायपुर। जिला अस्पताल के स्पर्श क्लीनिक में मनोरोगियों को योग सिखाया जाएगा, ताकि उनका मन शांत रहे। कुंठा, डिफ्रेशन और अनिद्रा से पीड़ित मरीजों को इसके माध्यम से जल्द स्वस्थ किया जा सके। स्पर्श क्लिनिक में अभी तक दवाएं देने के साथ योग करने की सलाह दी जाती थी। अब मरीजों को योग सिखाने के लिए योग शिक्षकों की नियुक्ति भी की जाएगी। विशेषज्ञों की राय है कि योग के जरिये रोगियों के बेहतर उपचार में मदद मिल सकेगी।

काउंसिलिंग के बाद क्लीनिक में योग कराने की व्यवस्था

मरीजों की काउंसिलिंग के बाद क्लीनिक में योग कराने की व्यवस्था की गई है। तनाव ग्रसित मरीजों को एकसाथ किसी गार्डन में योग में प्रशिक्षित किया जाएगा। इसमें प्राणायाम, ध्यानमुद्रा और सूर्य नमस्कार को प्राथमिकता दी जाएगी।

योग की देंगे किताब, जरूरत पड़ने पर सीडी भी

योग शिक्षक मरीजों को योग की किताबें और जरूरत पड़ने पर सीडी भी देंगे। इससे योग के विभिन्न आसनों को करने और सीखने में आसानी होगी। विशेषज्ञों के मुताबिक किसी भी प्रकार के मनोरोगी को योग के जरिए स्वस्थ्य बनाया जा सकता है, लेकिन नियमित अभ्यास जरूरी है।

हर दिन एक से दो घंटे कोर्स

हर दिन एक से दो घंटे तक मरीजों के लिए योग का कोर्स चलाया जाएगा। मरीजों के स्वास्थ्य की जांच रिपोर्ट के हिसाब से योग सिखाया जाएगा। यहां आने वाले मरीजों के लिए योग सीखना अनिवार्य कर दिया गया है।

इनका कहना है

योग शिक्षक की यहां नियुक्ति कर ली गई है। शीघ्र ही मरीजों को काउंसिलिंग के बाद योग भी सिखाया जाएगा।

-डॉक्टर संजय परिहार, मनोरोग चिकित्सक, स्पर्श क्लिनिक

Posted By: Nai Dunia News Network