रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। अनाज कारोबारी से 50 लाख की डकैती के मामले में फरार आरोपित अज्जू कश्यप ने आठ दिन बाद मंगलवार को मीडिया के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर पूछताछ शुरू कर दी है। मामले में इससे पहले पुलिस ने 14 आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

मिली जानकारी के अनुसार, आरोपित अज्जू फरार हो गया था। पुलिस की टीम अब उससे पूरी वारदात को लेकर पूछताछ कर रही है। मुख्य आरोपित देवेंद्र, अज्जू का दोस्त है। देवेंद्र के कहने पर वह इस लूट कांड में शामिल हुआ। घटना को अंजाम देने के बाद अज्जू को लगभग तीन लाख रुपये मिले। डेढ़ लाख उसने मां को दिए। 55 हजार रुपये कपड़े और दूसरी चीजों की खरीदारी में उड़ा दिए।

हरियाणा भाग गया था

वारदात के बाद अज्जू ट्रेन के रास्ते हरियाणा चला गया था। घर के आसपास रहने वाले लोगों ने उसके स्वजनों को इस बात की जानकारी दी तो उनके पैरों तले की जमीन खिसक गई। तत्काल बेटे को आत्मसमर्पण करने को कहा। एक निजी मीडिया चैनल पहुंचकर उसने आत्मसमर्पण कर दिया।

आंखों में मिर्च डालने का मिला था काम

अज्जू 16 मई की वारदात में शामिल था। उसे व्यापारी की आंखों में मिर्ची छिड़कने का काम दिया गया था। व्यापारी के दुकान से निकलते ही अज्जू अपनी बाइक पर अन्य साथियों के साथ उसका पीछा करने लगा। पिछली सीट पर उसका एक और साथी बैठा था। साथी ने कारोबारी पर हमला करके उसे गिरा दिया और अज्जू कैश वाला बैग लेकर भाग गया। सभी बदमाश अभनपुर इलाके के पास मिले और रुपये बांटकर फरार हो गए।

इससे पहले अनाज कारोबारी नरेंद्र खेतपाल से 50 लाख की डकैती के मामले में गिरफ्तार चार आरोपितों को पुलिस ने न्यायालय में पेश किया। पुलिस के द्वारा रिमांड नहीं मांगे जाने पर न्यायालय ने कारोबारी के मुंशी विकास चतुर्वेदी, देवेंद्र घृतलहरे, संजू श्रीहोल और एक नाबालिग को जेल भेज दिया। एक आरोपित अज्जू अब भी फरार है। हालांकि, पुलिस ने उसके घर दबिश दी, लेकिन सफलता नहीं मिली।

उल्लेखनीय है कि डकैती में अब तक 14 आरोपितों की गिरफ्तारी हुई है। इनके पास से 13 लाख रुपये बरामद किए गए हैं। 37 लाख कहां गए, इसकी जांच पुलिस कर रही है। ग्रामीण एसपी कीर्तन राठौर ने बताया कि कारोबारी को नोटिस दिया गया है। 50 लाख रुपये कहां से आए, इसकी जानकारी कारोबारी से मांगी गई है।

Posted By: Abhishek Rai

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close