रायपुर। Political News : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि देश के किसान मजदूर मजबूत होंगे, तो देश मजबूत होगा, यदि वे कमजोर होंगे तो देश भी कमजोर होगा। छत्तीसगढ़ ने किसानों, मजदूरों, गरीबों की जेब में पैसा पहुंचाने का काम किया है, यही वजह है कि छत्तीसगढ़ मंदी के असर से अछूता रहा।

महाराष्ट्र के संगमनेर में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और सहकारिता आंदोलन के प्रणेता भाऊ साहेब थोर्रात और हरित क्रांति में अपने योगदान के लिए याद किए जाने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री अन्न्ा साहेब शिंदे की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में सीएम बघेल ने प्रदेश के किसानों की खुशहाली की कहानी सुनाई।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरी दुनिया की कोई सरकार नहीं है, जो गोबर खरीदती हो। लेकिन हम दो रुपये किलो में गोबर खरीद रहे हैं। अब लोग गोबर बेचकर मोटरसाइकिल खरीद रहे हैं, हवाई यात्राएं कर रहे हैं। जिनके पास भूमि अथवा पशु नहीं हैं, वे भी केवल गोबर इकट्ठा कर आमदनी प्राप्त कर रहे हैं। उन्होंने रायगढ़ के सुखराम यादव का उदाहरण देते हुए बताया कि उन्होंने गोबर इकट्ठाकर चार महीने में 96 हजार रुपये कमाए हैं।

उन्होंने कहा कि फसलों की चराई, खुले में घूमने वाले पशुओं की वजह से होने वाले एक्सीडेंट और गोबर की वजह से फैलने वाली अस्वच्छता का हमें एक ही हल नजर आया कि गोबर की खरीदी की जाए। गोबर प्राप्त करने के लिए मवेशियों को लोग चारा खिलाएंगे। इससे मवेशी दुबले नहीं होंगे, दूध भी ज्यादा देंगे। हार्वेस्टर के इस युग में बछड़ों और बैलों को कोई नहीं रखना चाहता। जब उनके गोबर से भी पैसा मिलेगा, तब उनकी भी देखभाल करेंगे। गोबर से वर्मी कंपोस्ट बनाया जा रहा है। छत्तीसगढ़ अपने इस कदम से अब जैविक खेती की ओर बढ़ रहा है।

बोले सीएम, सवाल उठाने वालों के मुंह पर पड़ा गोबर

केंद्र सरकार ने गाय के गोबर से बना पेंट लांच किया। बुधवार को नागपुर रवाना होने से पहले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के गोबर के पेंट को लेकर भाजपा नेताओं पर कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि यह गोबर, गोधन न्याय योजना पर सवाल उठाने वालों के मुंह पर पड़ा है। केंद्र सरकार अगर किसानों से गोबर खरीदना चाहती है तो छत्तीसगढ़ में खरीदी का पूरा सिस्टम बना हुआ है। हमारे यहां अभी तक 32 लाख टन से अधिक गोबर खरीदा जा चुका है। अगर केंद्र सरकार पांच रुपए प्रति किलोग्राम गोबर खरीदती है, तो अच्छा है। इससे समितियों को तीन रुपये प्रति किलोग्राम की अतिरिक्त आय होगी।

छत्तीसगढ़ के लिए यह खुशी की बात

राज्य की गोधन न्याय योजना पर पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने तंज कसा था और कहा था कि गोबर को राजकीय चिह्न बना दिया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ ने सबसे पहले यह बात उठाई कि चावल से एथनाल बनना चाहिए। अब केंद्र सरकार कह रही है कि एथनाल बनाया जाएगा। अब गोधन न्याय योजना का भी केंद्र सरकार अनुसरण कर रही है तो छत्तीसगढ़ के लिए यह खुशी की बात है।

Posted By: Kadir Khan

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस