जगदलपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि दलपत सागर के संरक्षण और सुंदरीकरण का सपना निश्चिततौर पर साकार होगा और इसका पुराना वैभव लौटेगा। यह कार्य शासन-प्रशासन सहित सामाजिक संगठनों और आम नागरिकों के सहयोग से सफल किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को दलपत सागर के सुंदरीकरण के लिए तीन करोड़ रुपये और जगदलपुर शहर के विकास के लिए पांच करोड़ रुपये प्रदान करने की घोषणा करते हुए यह बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने दलपत सागर में आयोजित नौकायन प्रतियोगिता के समापन समारोह में यह घोषणाएं कीं।

मुख्यमंत्री बघेल ने दलपत सागर के सुंदरीकरण अंतर्गत दलपत देव की मूर्ति स्थापना, परिक्रमा पथ, स्ट्रीट लाइट, घाट निर्माण, फ्लोटिंग रेस्टोरेंट आदि कार्यों के लिए तीन करोड़ रुपये प्रदान करने की घोषणा की। इसके साथ ही दलपत सागर के उचित प्रबंधन के लिए दलपत सागर प्रबंधन समिति का गठन करने सहित बस्तर के खिलाड़ियों के लिये दलपत सागर में क्याकिंग-कैनोईन खेल के प्रशिक्षण की व्यवस्था के साथ ही गंगामुंडा तालाब का सुंदरीकरण करने की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री ने दलपत सागर में अंतिम चरण की नौकायन प्रतियोगिता को हरी झंडी दिखाई। उन्होंने यहां 51 करोड़ रुपये के विकास कार्यों की सौगात देने के साथ ही चार हितग्राहियों को वन अधिकार मान्यता पत्र भी प्रदान की। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि जगदलपुर शहर की पहचान दलपत सागर है और प्रदेश का सबसे बड़े तालाब का गौरव भी जगदलपुर को प्राप्त है। उन्होंने कहा कि इस विशाल तालाब की सुरक्षा की लड़ाई बड़े लंबे समय से लड़ी जा रही थी।

उन्होंने निर्णायक लड़ाई में सफलता हासिल करने के लिए जनप्रतिनिधियों, स्वयंसेवी संस्था, आम नागरिकों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस ऐतिहासिक धरोहर को संरक्षित करने के लिए पूर्व में भी प्रयास किए जा चुके हैं, किंतु इस बार यह प्रयास गंभीर है और इसके परिणाम भी स्पष्ट दिखाई दे रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जल चाहे तालाब का हो, नदी का हो, या समुद्र का हो, यह मानव को सदा से ही आकर्षित करता रहा है।

जल जीवन ही नहीं है, यह मन को शांति भी प्रदान करता है। ऐतिहासिक दलपत सागर की सुंदरता निखरने के बाद लोग परिवार के साथ यहां सैर करने आएंगे, तो यह उनके पूरे परिवार के लिए आनंद का क्षण होगा। यहां चैपाटी एवं अन्य मनोरंजन के साधन भी होंगे, जो लोगों को रोजगार भी देगी। सांसद दीपक बैज ने इस अवसर पर कहा कि ऐतिहासिक धरोहर के संरक्षण के लिए पहल करने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के प्रति आभार व्यक्त किया।

उन्होंने जिला प्रशासन और नगरीय प्रशासन द्वारा भी इसके सौन्दर्यीकरण के लिए उठाए गए त्वरित कदमों की सराहना की। सांसद ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल प्राकृतिक संसाधनों को बचाने के लिए नरवा गरवा, घुरवा और बाड़ी जैसी योजनाएं संचालित की। दलपत सागर का संरक्षण और सुंदरीकरण भी प्राकृतिक और ऐतिहासिक धरोहर को संरक्षित करने का एक बड़ा कदम है। इस अवसर पर महापौर सफीरा साहू ने भी सभा को संबोधित किया।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कलेक्टर रजत बंसल द्वारा संपादित ‘बस्तर की धरोहर‘ स्मारिका का विमोचन भी किया। कलेक्टर रजत बंसल ने अपने स्वागत उद्बोधन में लगभग ढाई सौ साल पुरानी इस ऐतिहासिक धरोहर के संरक्षण और सौन्दर्यीकरण के लिए किए जा रहे प्रयासों के संबंध में जानकारी दी। इस अवसर पर हस्तशिल्प विकास बोर्ड के अध्यक्ष चंदन कश्यप, चित्रकोट विधायक राजमन बेंजाम, पद्श्री धर्मपाल सैनी, अक्षय ऊर्जा विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष मिथिलेश स्वर्णकार, मछुआ कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष एमआर निषाद, नगर निगम की सभापति कविता साहू, कमिश्नर जीआर चुरेन्द्र, आईजी सुंदरराज पी सहित जनप्रतिनिधि और नागरिकगण उपस्थित थे।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags