रायपुर (राज्य ब्यूरो)। प्रदेश के सभी नगरीय निकायों को पालीथिन कचरा के निराकण के लिए बेलिंग-फटका मशीन उपलब्ध कराया गया है। लेकिन एक वर्ष बाद भी करीब 20 नगरीय निकायों में मशीनें धूल फांक रही हैं। इनका ट्रायल तक नहीं हो पाया है। निकायों की इस लापरवाही को सरकार ने गंभीरता से लिया है। नगरीय प्रशासन विभाग के मुख्य अभियंता संजीव व्योहार ने इसे गंभीर लापरवाही मानते हुए संबंधित निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारियों को पत्र लिखा है। व्योहार ने निकाय प्रमुखों को मश्ाीन सात दिन के भीतर चालू करके विभाग को तुरंत सूचित करने के लिए कहा है।

अफसरों के अनुसार शहरी क्षेत्रों में निकलने वाले कचरे में बड़ा हिस्सा पालीथिन का होता है। चूंकि पालीथिन प्राकृतिक रूप से नष्ट नहीं होता, इस वजह से यह मशीनें उपलब्ध कराई गई हैं। इसमें फटका मशीन से कचरे में से पालीथिन अलग किया जाता है, जबकि बेलिंग मशीन से उसे ईंट का आकार दिया जाता है। इस ईंट को सीमेंट समेत कुछ अन्य उद्योगों में ईंधन व कच्चे माल के रूप उपयोग किया जाता है।

एक यूनिट की कीमत करीब 10 लाख रुपये

अफसरों के अनुसार बेलिंग-फटका मशीन के एक यूनिट की कीमत करीब 10 लाख रुपये है। अफसरों के अनुसार 20 निकायों को छोड़कर बाकी निकायों में मशीनें चालू हो चुकी हैं। महासमुंद में इसी वर्ष जुलाई में इसे चालू किया गया है। वहीं, जगदलपुर, भिलाई समेत कई निकायों में मशीनें कुछ दिन चलने के बाद से बंद पड़ी हैं।

इस वजह से बढ़ी है चिंता

नए साल के दूसरे महीने (फरवरी) में स्वच्छता सर्वेक्षण्ा-2022 श्ाुरू होगा। स्वच्छता के मामले में पिछले तीन वर्षों से राज्य की स्थिति राष्ट्रीय स्तर पर लगातार बेहतर रही है। इस वर्ष प्रदेश्ा को स्वच्छ राज्य के साथ ही यहां के 67 निकायों को विभिन्न् श्रेण्ाियों में राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत किया गया है। अफसरों के अनुसार नए वर्ष में होने वाले सर्वे में कचरा विश्ोष रूप से पालीथिन के निस्तारण्ा पर खास ध्यान दिया जाना है। ऐसे में बेलिंग-फटका मश्ाीन बंद होने से अंक प्रभावित हो सकता है।

------------

इन नगरीय निकायों को भेजा नोटिस

सात दिन के भीतर मश्ाीन चालू करने के लिए नगर पालिक परिषद दल्लीराजहारा, नगर पंचायत- पलारी, राजिम, गुरूर, साजा, मारो, छुरिया, बोदरी, पेंड्रा, पथरिया, बलौदा, श्ािवरीनारायण्ा, जैजैपुर, घरघोड़ा, धरमजयगढ़, लैलूंगा, सीतापुर, अंतागढ़, पंखाजूर व भोपालपट्टनम को नोटिस भेजा गया है।

Posted By: Sanjay Srivastava

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close