रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। Paryushan 2021: दिगंबर जैन मंदिर सन्मति नगर फाफाडीह में गुरुवार को ब्रह्मचारी चक्रेश भैया ने पर्युषण पर्व के सातवें दिन उत्तम तप धर्म पर प्रवचन दिया। उन्होंने कहा कि आज पर्युषण पर्व का सातवां दिन उत्तम तप धर्म की आराधना और पालना का दिन है। 12 प्रकार का तप माना गया है। इनमें छह अंतरंग तप होते हैं और छह बहिरंग तप होते हैं।

अंतरंग तप में एक तप का नाम विनय है। अपने से अधिक गुण वालों के प्रति विनम्रता का भाव होना तप कहा गया है। जिस प्रकार से सोने को तपाकर आभूषण बनाए जाते हैं, उसी प्रकार तप के माध्यम से आत्मा को परमात्मा बनाया जाता है। आत्मा से परमात्मा बनने की प्रक्रिया तप है।

राष्ट्रीय महिला अधिवेशन अगले माह, तैयारियों में जुटा रायपुर श्रमण संघ

श्री लालगंगा पटवा भवन, टैगोर नगर में गुरुवार को भक्तामर स्रोत के चौथे श्लोक का अनुष्ठान किया गया। इस अवसर पर साध्वी मंगलप्रभा म.सा. के सानिध्य में भक्तिभाव के साथ पूजा-अर्चना की गई। अनुष्ठान के बाद रायपुर श्रमण संघ की बैठक हुई, जिसमें अक्टूबर महीने में आयोजित राष्ट्रीय महिला अधिवेशन की तैयारियों पर चर्चा की गई।

रायपुर श्रमण संघ के अध्यक्ष ललित पटवा ने बताया कि श्रमण संघ द्वारा हर वर्ष राष्ट्रीय स्तर पर महिला सम्मेलन का आयोजन किया जाता है। इस वर्ष सम्मेलन कराने की जिम्मेदारी रायपुर संघ को मिली है। इसी तारतम्य में कार्यक्रम को लेकर गुरुवार को संघ के पदाधिकारियों की बैठक रखी गई थी।

देश भर की महिलाएं इसमें जुटेंगी, लिहाजा उसी स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं। इसके अलावा रविवार को स्थानक में आचार्य जयमल महाराज की जयंती भी मनाई जाएगी। बैठक में इसकी तैयारियों पर भी चर्चा हुई। बैठक में संघ के सभी पदाधिकारियों समेत बालिका, महिला व बहू मंडल के सभी सदस्य उपस्थित रहे।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local