आकाश शुक्ला, रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राज्य के सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध रहने वाली जरूरी दवाएं रोगियों को नहीं मिल पा रही हैं। दवाओं के टोटे के चलते मरीज परेशान हैं। वहीं आपूर्ति की जाने वाली जरूरी 90 फीसद दवाएं उपलब्ध न करा पाने की समस्या पर अस्पताल प्रबंधन छत्तीसगढ़ मेडिकल सर्विसेज कारपोरेशन (सीजीएमएससी) को जिम्मेदार ठहरा रहा है।

बता दें कि शासकीय अस्पतालों में दवाओं से लेकर सर्जिकल सामान उपलब्ध कराने का जिम्मा सीजीएमएससी का है। ऐसे में समय-समय पर जरूरी दवाओं की आवश्यकता पर अस्पताल सीजीएमएससी से डिमांड करते हैं, लेकिन लंबे समय से उनकी डिमांड समय पर पूरी ही नहीं की जा रही है। वहीं खरीदी के लिए एनओसी देने की प्रक्रिया और अस्पताल स्तर पर दवा खरीदी में इतना समय लग जाता है कि महीनों अस्पताल में जरूरी दवाएं ही नहीं होती हैं। इन सबके चलते इलाज के लिए पहुंचे मरीजों को निश्शुल्क मिलने वाली दवाएं भी मजबूरी में बाहर मेडिकल से महंगे दामों में खरीदनी पड़ रही है।

10 फीसद दवाएं ही दे रहे अस्पताल को

मिली जानकारी के मुताबिक डीकेएस अस्पताल में करीब 1200 तरह की दवाओं की आवश्यकता होती है। इसमें सीजीएमएससी ने लगभग 120 तरह की दवाएं ही उपलब्ध कराईं। इसी तरह जिला अस्पताल में करीब 350 तरह की जरूरी दवाओं में 10 फीसद वहीं आंबेडकर अस्पताल में 1000 से अधिक जरूरी दवाओं में से 20 फीसद दवाएं ही सीजीएमएससी द्वारा उपलब्ध कराई गई हंै। यही स्थिति जिला स्वास्थ्य विभाग की भी है।

भ्रष्टाचार से घिरा विभाग, 400 दवाएं व उपकरण के टेंडर निरस्त

भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरी सीजीएमएससी ने 400 दवाओं व उपकरणों की खरीदी के करीब एक दर्जन टेंडर को हाल ही में निरस्त किए हैं। इसमें दवाओं के साथ ही पैथोलाजी लैब, आपरेशन थियेटर सहित अन्य सर्जिकल उपकरण की खरीदी होनी है। मामले में पक्ष जानने सीजीएमएससी के एमडी कार्तिकेय गोयल को फोन किया गया, लेकिन उन्होंने नहीं उठाया। वहीं विभाग के अन्य अधिकारियों ने भी मामले से पल्ला झाड़ लिया।

सरकारी अस्पतालों में हर माह औसत ओपीडी

10882 औसत ओपीडी जिला अस्पताल

50,000 से अधिक शासकीय मेडिकल कालेज की

10500 डीकेएस अस्पताल की

21237 ओपीडी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में

43702 ओपीडी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में

58313 उप स्वास्थ्य केंद्रों में

जरूरी दवाओं की बनी है सूची

शासन ने जरूरी दवाओं की सूची बनाई है। आवश्यकता पर दवाएं सीजीएमएससी से डिमांड करते हैं, लेकिन अधिकांश दवाएं नहीं मिलतीं। 10 फीसद दवाएं ही उपलब्ध कराते हैं। बाकी लोकल पर्चेसिंग से खरीदते हैं।

-डा. पीके गुप्ता, सिविल सर्जन, जिला अस्पताल

10 फीसद दवाएं मिलती हैं

अस्पताल में करीब 1,200 तरह की दवाओं की आवश्यकता होती है। सीजीएमएसी हमें 10 फीसद दवाएं उपलब्ध करा पाती है। अस्पताल में दवाओं की कमी दूर करने की हमारी कोशिश हमेशा रहती है।

-डा. हेमंत शर्मा, सह अधीक्षक, डीकेएस अस्पताल

रहती है किल्लत

समय पर दवाओं की आपूर्ति न होने से कई दवाओं की किल्लत तो अस्पताल में रहती है। शासकीय प्रक्रिया में समय भी लगता है। सभी जरूरी दवाएं अस्पताल में हों, इसे सुनिश्चित करेंगे।

-डा. एसबीएस नेताम, अधीक्षक, आंबेडकर अस्पताल

Posted By: Ravindra Thengdi

NaiDunia Local
NaiDunia Local