रायपुर। Corona Warriors Honor: सकल जैन समाज और जैनम मानस समिति के संयुक्त नेतृत्व में पिछले माह कोरोना महामारी के दौरान मरीजों को राहत पहुंचाने 106 बिस्तर वाला निश्शुल्क कोविड अस्पताल शुरू किया गया था। पिछले दिनों अस्पताल से सभी मरीजों की छुट्टी हो जाने और बीमारी का प्रकोप कम होने से अब अस्पताल को बंद कर दिया गया है। अस्पताल में डेढ़ महीने तक सेवा देने वाले समाजसेवियों का सम्मान किया गया।

इस मौके पर पूर्व मंत्री एवं जैनम मानस समिति के मार्गदर्शक राजेश मूणत, सकल जैन समाज के सभी संघों के अध्यक्ष, जैनम मानस समिति के अध्यक्ष समेत समाजसेवी अनिल पारख, शान्तिलाल बरड़िया, अशोक पटवा, राजेन्द्र सुराणा, अरविंद बड़जात्या, पारस चोपड़ा, अभय भंसाली, डॉ सुरेंद्र जायसवाल, जय कुमार बैद आदि शामिल थे।

कार्यक्रम में महेंद्र धाड़ीवाल ने अध्यक्षीय उद्बोधन में कहा कि सीमित संख्या वाले जैन समाज ने मानवीय संवेदनाओं को ध्यान में रखकर मानव सेवा के कार्य को जी जान से किया है, इसके लिए सभी सहयोगी एवं सेवाभावी टीम का आभार एवं सम्मान करते हैं।

पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने कहा कि संक्रमण के इस काल मे जैन समाज के लोगों ने उदारता के साथ जो अपना मानवीय कर्तव्य निभाया वो अकल्पनीय है। जैन समाज के अलावा अन्य समाजजनों ने भी इस कार्य के लिए अभूतपूर्व योगदान दिया। साथ ही छत्तीसगढ़ शासन, चिकित्सा विभाग, नगर पालिक निगम, जिला प्रशासन, जनप्रतिनिधियों ने भी जैनम कोविड अस्पताल में सहयोग किया।

155 मरीजों का इलाज

डॉ. सुरेंद्र जायसवाल ने बताया कि डेढ़ महीने में 155 कोविड मरीजों का इलाज किया। इनमें 38 मरीज वेंटीलेटर एवं शेष मरीज आक्सीजन वाले थे। कुछ एक मरीज तो गम्भीर हालत में आए थे। छत्तीसगढ़ के अलावा ओडि़सा, झारखंड, मध्यप्रदेश के भी मरीजों का इलाज किया गया।

कार्यक्रम में अनिल पारख ने जैनम कोविड अस्पताल का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। शन्तिलाल बरड़िया ने आभार व्यक्त किया। संचालन कन्हैया लुनावत ने किया। समाजसेवी पंकज चोपड़ा की पूरी टीम का सम्मान किया गया। इस मौके पर जैनम में पौधारोपण भी किया गया।

Posted By: Shashank.bajpai

NaiDunia Local
NaiDunia Local