रायपुर, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गुरुवार को अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से गोधन न्याय योजना के तहत गोठान समितियों, स्व-सहायता समूहों और गोबर विक्रताओं के बैंक खातों में तीन करोड़ सात लाख 18 हजार रुपये ट्रांसफर (अंतरित) किया। इसमें गोठान समितियों और स्व-सहायता समूहों को लाभांश के रूप में दो करोड़ 45 लाख दिया गया है।

योजना के तहत अब तक गोबर खरीदी के एवज में 95 करोड़ 94 लाख का भुगतान किया गया है, जिससे एक लाख 68 हजार 531 पशुपालक किसान और ग्रामीण लाभांवित हुए हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने गोधन सुपर कंपोस्ट मोबाइल एप का भी लोकार्पण किया। कोरोना काल में यह राशि ग्रामीणों और किसानों के लिए किसी लॉटरी की तरह निकली।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गोधन न्याय एक ऐसी योजना है, जिसके कई लाभ हैं। यह योजना समाज के सभी वर्गों और लोगों के लिए फायदेमंद साबित हो रही है। योजना से पशुधन का संरक्षण और संवर्धन, फसल व पर्यावरण की सुरक्षा, गोबर विक्रय से ग्रामीण और पशुपालकों को आय, वर्मी कंपोस्ट, सुपर कंपोस्ट और अन्य उत्पाद के निर्माण से महिला स्व सहायता समूहों को रोजगार व आय का जरिया बना है। इसके साथ ही जैविक खेती को प्रोत्साहन मिलने से केमिकलयुक्त भोजन से लोगों को निजात मिलेगी।

इस अवसर पर कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा कि इस योजना की पूरे देश में चर्चा है। इसकी सार्थकता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि संसद की कमेटी ने केंद्र सरकार से छत्तीसगढ़ की इस योजना को लागू करने की अनुशंसा की है।

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags