रायपुर। डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट आफ इन्फार्मेशन टेक्नोलाजी (ट्रिपलआइटी) नवा रायपुर के तीन विद्यार्थियों का चयन गूगल ने अपने 'गूगल समर आफ कोड इंटर्नशिप कार्यक्रम के लिए किया है। इनमें दिव्यांश कुशवाहा, सौम्या रंजन पटनायक और खुशी अग्रवाल शामिल हैं। दिव्यांश का चयन एंड्रायड साफ्टवेयर पर काम करने के लिए हुआ है। सौम्या लाइनक्स और खुशी कुपी के बैकएंड इंप्लीमेंटेशन के लिए काम करेंगी।

कालेज प्रबंधन ने बताया कि गूगल समर आफ कोड इंटर्नशिप विश्वस्तर का कार्यक्रम है, जो ओपन-सोर्स साफ्टवेयर डेवलपमेंट के क्षेत्र में नए शिक्षार्थियों को लाने पर केंद्रित है। इसमें विभिन्ना साफ्टवेयर पर काम करने के लिए छत्तीसगढ़ के तीन समेत विश्व के 1,209 विद्यार्थी चयनित हुए हैं।

इसके तहत विद्यार्थियों को मई और अगस्त के बीच एक ओपन सोर्स आर्गेनाइजेशन के साथ तीन-माह के प्रोग्रामिंग प्रोजेक्ट पर काम करने का अवसर मिलेगा। इसमें भाग लेने वाले संस्थानों द्वारा विद्यार्थियों को मेंटर उपलब्ध कराया जाएंगे, जो उन्हें रियल-वर्ल्ड के साफ्टवेयर डेवलपमेंट और तकनीकों से अवगत कराएंगे।

ट्रिपलआइटी डीन एकेडमिक डा. राजर्षि महापात्रा ने कहा, ट्रिपलआइटी में छात्रों को जटिल समस्याओं का समाधान करने और समाज को बेहतर बनाने में अपना योगदान देने के लिए प्रेरित किया जाता है। चयनित विद्यार्थियों की सफलता हमारे इस फोकस का प्रमाण है।

शोध के लिए मारीशस जाएंगे ट्रिपल आइटी के असिस्टेंट प्रोफेसर

डा. श्यामा प्रसाद मुखर्जी इंटरनेशनल इंस्टिट्यूट आफ इनफर्मेशन टेक्नोलाजी (ट्रिपल आइटी) नवा रायपुर में गणित विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डा. कुलदीप सिंह पटेल को भारत सरकार के सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डीएसटी) ने इंटरनेशनल रिसर्च एक्सपीरियंस फैलोशिप के लिए चुना है। इस फैलोशिप के तहत डा. कुलदीप को वित्तीय बाजार की समस्याओं, खासकर 'हाई-आर्डर कांपैक्ट स्कीम्स फार प्राइजिंग इंटरेस्ट रेट डेरिवेटिव्स" (मूल्य ब्याज दर डेरिवेटिव्स के लिए उच्च-क्रम की कांपैक्ट योजनाओं पर शोध करने के लिए मारीशस विश्वविद्यालय भेजा जाएगा।

शोधकर्ता के रूप में डा. कुलदीप मारीशस विश्वविद्यालय में गणित विभाग के प्रो. मुद्दून भुरुथ के साथ सहयोग करेंगे। उन्होंने बताया कि यह भारत सरकार की एक प्रतिष्ठित फैलोशिप है। इस फैलोशिप की अवधि जून 2022 से सितंबर 2022 के बीच चार माह की होगी। यह फैलोशिप भविष्य के शोध क्षेत्र में सहयोग का विस्तार करेगी। नए अनुसंधान की संभावनाओं के द्वार खोलेगी। इससे ट्रिपल आइटी नया रायपुर में पढ़ रहे बीटेक, एमटेक के विद्यार्थियों और शोध के क्षेत्र में काम कर रहे विद्वानों के लिए शोध, इंटर्न/पोस्ट डाक्टरेट के लिए अवसरों का सृजन भी होगा।

Posted By: Ashish Kumar Gupta

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close