रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

आयकर रिटर्न जमा करने के लिए शनिवार 31 अगस्त को आखिरी दिन है। इसके बाद आपको 5000 रुपये पैनाल्टी लगेगी। इसमें भी सबसे खास बात यह है कि पिछले वित्तीय वर्ष की तुलना में रिटर्न फाइल जमा होने में अभी भी करीब एक लाख पीछे हैं और चौबीस घंटे में एक लाख से अधिक रिटर्न जमा होना है। पिछले तीन-चार सालों से छत्तीसगढ़ में लगातार आयकर रिटर्न भरने वालों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। वित्तीय वर्ष 2018-2019 में प्रदेश से 10 लाख से अधिक आयकर रिटर्न जमा हुए हैं।

गौरतलब है कि काफी समय से वर्ष 2019-20 के लिए आइ रिटर्न फाइल करने की प्रोसेस चल रही है। पहले रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 जुलाई थी, जिसे बढ़ाकर 31 अगस्त किया गया है। आयकर विभाग ने वर्ष 2019-20 के लिए आइटीआर 1, 2 और 4 के लिए ई-फाइलिंग 'यूटिलिटीज' (यानी ऑनलाइन फाइलिंग के लिए उपयोग किए जा सकने वाले वर्जन) भी जारी किए हैं जो कि व्यक्तिगत करदाताओं के लिए जरूरी है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने इस साल इ फॉर्म में कुछ बदलाव किए हैं। अब आपको इ-1 फॉर्म में अन्य आमदनी का पूरा ब्योरा देना होगा।

फॉर्म 16 को अन्य व्यक्तिगत आय पर कटौती के लिए जारी किया जाता है। अगर 31 अगस्त तक रिटर्न दाखिल नहीं होता है तो फिर इसे फाइन के साथ 31 मार्च 2020 तक भरना होगा। 31 अगस्त 2019 तक 5 लाख तक के आय पर रिटर्न भरने पर कोई जुर्माना नहीं लगेगा। एक सितंबर 2019 से 31 दिसंबर 2019 तक 5 लाख के इनकम पर 1000 रुपये जुर्माना, 5 लाख से ज्यादा के इनकम पर 5000 रुपये जुर्माना लगेगा।

जीएसटी रिटर्न की तारीख आगे बढ़ने से बड़ी सहूलियत

कर विशेषज्ञों का कहना है कि जीएसटी रिटर्न की तारीख तीन महीने आगे बढ़ने से अब आयकर रिटर्न भरने को बड़ी सहूलियत मिली है। जीएसटी रिटर्न भी साथ होने के कारण सिस्टम में भी बार-बार समस्या आने लगी थी और सर्वर डाउन होने लगा था। अब आसानी से आयकर रिटर्न जमा हो रहे हैं।