रायपुर। राजधानी में बुनियादी स्वास्थ्य सुविधाएं दुरुस्त करने के लिए दो नए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बनने जा रहे हैं। प्रत्येक के लिए 75-75 लाख यानी डेढ़ करोड़ की राशि स्वीकृत की गई है। बता दें कि राजधानी में समय के साथ ही अस्पतालों में मरीजों का दबाव बढ़ रहा है, लेकिन व्यवस्थाएं सीमित होने की वजह से मरीजों को समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा है। जमीनी स्तर पर स्वास्थ्य सेवाएं मजबूत करने के मकसद से राजधानी के मठपुरैना और कांशीराम नगर में दो प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बनाने का निर्णय लिया गया है।

इस वर्ष स्वास्थ्य केंद्र को पूरा करने के लक्ष्य को देखते हुए सीजीएमएससी की तरफ से टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। कांशीराम नगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के लिए 0.611 हेक्टेयर की जमीन, वहीं मठपुरैना स्वास्थ्य केंद्र के लिए 0.805 हेक्टेयर की जमीन चिह्नित की गई है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार स्वास्थ्य केंद्रों में जमीन पर्याप्त है। ऐसे में भवन बनने के बाद आगे बिस्तरों की सुविधाएं बढ़ाने पर भी विचार किया जा रहा है। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग इस वर्ष अस्पताल को शुरू करने के मकसद से तेजी से कार्य कर रहा है।

प्राथमिक स्तर पर सुविधाएं नहीं, बड़े अस्पतालों में मरीजों का दबाव

जिले में प्राथमिक स्तर पर स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति बेहतर न होने की वजह से मरीज छोटी-छोटी बीमारियों के लिए राजधानी के बड़े अस्पतालों की ओर रुख कर रहे हैं। ऐसे में बड़े अस्पतालों में मरीजों का दबाव बढ़ रहा है। इलाज की व्यवस्था यहां भी सीमित होने की वजह से आए दिन अस्पताल में सुविधाएं न मिलने से मरीजों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

राजधानी के शासकीय अस्पतालों स्थिति

165 उपस्वास्थ्य केंद्र

126 स्वास्थ्य सुविधा केंद्र

36 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र

04 हमर अस्पताल

8 सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र

02 जिला अस्पताल

1 एम्स

1 मेडिकल कालेज

1 डीकेएस सुपरस्पेशियलिटी अस्पताल

गाइड लाइन में जनसंख्या के अनुसार स्वास्थ्य केंद्र

- 5000 हजार की जनसंख्या में एक उपस्वास्थ्य केंद्र

- 30,000 की जनसंख्या में ग्रामीण प्राथमिक, 50 हजार में शहरी प्राथमिक स्कवास्थ्य केंद्र

- एक लाख की जनसंख्या में ग्रामीण और पांच लाख में एक शहरी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र

- 10 हजार की शहरी आबादी में एक स्वास्थ्य सुविधा केंद्र

- गाइड लाइन के अनुसार आबादी के आधार पर केंद्रों की संख्या कम है

वर्जन

कांशीराम नगर और मठपुरैना में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र इस वर्ष शुरू करने का लक्ष्य है। बजट पास होने के साथ ही टेंडर प्रक्रिया भी चल रही है। चार से छह महीने में भवन तैयार कर वर्ष के अंत तक अस्पताल की सुविधाएं लोगों को देंगे। वहीं प्राथमिक स्तर पर स्वास्थ्य केंद्रों को दुस्र्स्त करने की भी तैयारी है, ताकि घर के आसपास ही मरीजों को बेहतर इलाज की सुविधाएं मिल सके।

- डॉ. मीरा बघेल, सीएमएचओ, जिला रायपुर

Posted By: Shashank.bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags