रायपुर। बंगाल की खाड़ी में एक सिस्टम तेजी से बना और ऐसा बना कि उसने मध्य छत्तीसगढ़ को आधे-पौन घंटे में तरबतर कर दिया। इस सिस्टम के साथ-साथ मंगलवार को तेज धूप भी रही। इसके कारण वाष्पीकरण हुआ और बादल बने, बरसे भी। सिर्फ पौन घंटे में 49.2 किमी बारिश दर्ज हुई। इसके बाद भी बूंदाबांदी जारी रही।

मौसम वैज्ञानी एचपी चंद्रा के मुताबिक इसका प्रभाव बुधवार को भी रहेगा। एक और सिस्टम 23-24 तक सक्रिय हो रहा है, लेकिन उसका प्रभाव बहुत ज्यादा नहीं होगा। बहरहाल प्रदेश में अब तक 1,122 मिमी तक बारिश हो चुकी है।

मंगलवार की सुबह से ही रायपुर में धूप खिली रही। हालांकि बीच-बीच में बादल आए जरूर, लेकिन गुजर गए, मगर शाम को ऐसे बरसे की शहर पानी-पानी हो गया। बारिश इतनी तेज थी, बाइक चलाना मुश्किल हो रहा था। दृश्यता भी कम हुई। जयस्तंभ चौक, बूढ़ातालाब गणेश मंदिर के सामने, सलेम स्कूल के सामने की सड़क बारिश में डूब गई। हालांकि जल्द ही पानी निकल भी गया।

जिले- तापमान- बारिश के आंकड़े

रायपुर- 34.4- 49.2

बिलासपुर- 32.6- 1.6

पेंड्रा- 30.6- 7.2

अंबिकापुर- 30.5- 6.2

जगदलपुर- 33.2- 4.8

दुर्ग- 33.2- 0.0

राजनांदगांव- 32.0- 32.0

(आंकड़े मिमी में)

पूर्वानुमान- पूर्वी मध्यप्रदेश के आसपास समुद्र तल से 3.10 किमी ऊपर तक फैला चक्रवाती घेरा स्थित है। समुद्र तल पर मानसून द्रोणिका असम और मेघालय से नगालैंड से पूर्व की ओर से होकर गुजर रहा है। आंध्र प्रदेश के तट से दूर पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती घेरा 7.6 किमी समुद्र तल से ऊंचाई के साथ दक्षिण-पश्चिम की ओर झुका हुआ है। बुधवार को भी रायपुर, दुर्ग,राजनांदगांव के कुछ क्षेत्रों में बारिश हो सकतती है।