रायपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

धोती-कुर्ता देश की पारंपरिक वेशभूषा है। आमतौर कम ही लोग अब इस पोशाक में दिखते हैं। खासकर आइएएस अफसरों को तो शायद कभी-कभार ही ऐसा मौका मिलता है कि वे धोती पहनें। चूंकि इन दिनों देशभर में लॉकडाउन है। ऐसे में रायपुर संभाग के कमिश्नर जीआर चुरेंद्र की न सिर्फ दिनचर्या बदली है, बल्कि उनकी पोशाक भी बदल गई है। घर पर रहकर ही वे जिलों की मॉनिटरिंग में लगे हुए हैं। कभी गीता तो कभी अन्य धार्मिक किताबें पढ़ते हैं। धोती पहने घर पर ही सारा दिन बिता रहे हैं, पर चिंता अपने जिलों की हमेशा रहती है। कभी महासमुंद तो कभी धमतरी, कभी बलौदाबाजार तो कभी रायपुर के कलेक्टर से कोरोना संक्रमण को लेकर कितनी व्यवस्था दुरुस्त है, पूछते रहते हैं, पल-पल की खबर अपडेट करने में ही समय बीतता है। जरूरी काम से जैसे ही घर से बाहर निकलते हैं तो उनकी पत्नी तारादेवी उन्हें समझाती हैं- शारीरिक दूरी का आप भी पालन करिएगा, घर से बाहर निकल रहे हैं तो कम से कम मास्क लगा लीजिए।

दौरे करके ले रहे हैं जायजा

कमिश्नर लगातार अपने जिलों में दौरे भी कर रहे हैं । तीन दिन पहले उन्होंने धमतरी और महासमुंद की व्यवस्था की मॉनिटरिंग की। इसके बाद बलौदाबाजार और रायपुर में निरंतर जुटे हुए हैं। कमिश्नर चुरेंद्र कहते हैं कि लोगों को शारीरिक दूरी का पालन करना चाहिए। यह वक्त घर पर रहकर ही कोरोना से लड़ने का है।

---------

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना