रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआइटी) रायपुर में कोमबेटिंग कोविड-19 विषय पर अंतर्राष्ट्रीय ऑनलाइन कार्यशाला के तीसरे दिन के प्रथम सत्र में रायपुर के योगी अश्विनी ने ध्यान फाउंडेशन के स्वयंसेवकों ने कोविड-19 चुनौतियां और ध्यान के माध्यम से प्रतिक्रिया पर शुरू हुआ। इस मौके पर सांस लेने के गुण और अवगुण के साथ सही सांस लेने के तरीके के बारे में जानकारी। इसके अलावा उन्होंने सांस की गिनती का प्रदर्शन किया। सत्र के अंत में योगी अश्विनी ने कुछ प्रतिभागियों के सवालों का जवाब दिया जैसे कपल भारती, कैसे डर से बाहर निकलें, टीकाकरण, एंटीबॉडी के विकास, परीक्षा में सुधार के बारे में संदेह को दूर किया।

कार्यक्रम का दूसरा सत्र हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. पवन मौर्य ने मानसिक विकार में तेजी लाने विषय पर प्रस्तुत किया। तीसरे सत्र में बाल रोग विशेषज्ञ ने डॉ. कंचन शुक्ला ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए नियमित दिनचर्चा के दौरान क्या करें और क्या न करें आदि के बारे में बताया। कार्यशाला का आयोजन रसायन विज्ञान और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा किया जा रहा है। इसका कोऑर्डिनेटर्स डॉ. सुधाकर पांडेय और डॉ. कफील अहमद सिद्दीकी हैं। उन्होंने बताया कि कार्यशाला में यूएसए, ऑस्ट्रेलिया, स्पेन और यूके समेत भारत के 425 प्रतिभागी शामिल हो रहे हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस