राजनांदगांव(नईदुनिया प्रतिनिधि)। चिटफंड कंपनियों के खिलाफ अब प्रकरण बनना शुरू हो गया है। ब्लाक स्तर पर तहसीलदार और एसडीएम प्रकरण तैयार कर रहे हैं। चिटफंड मामले में आए आवेदनों की प्रशासन ने इंट्री पूरी करा ली है। जिले में कुल तीन लाख 31 हजार 857 आवेदन आए हैं। चिटफंड में करीब 993 लाख 37 हजार 990 रुपये लोगों का फंसा है। जिसकी वापसी की आस को लेकर लोगों ने आवेदन किया है। आवेदनों की इंट्री का काम पूरा होने के बाद प्रशासन ने प्रकरण बनाना शुरू कर दिया है। मामले के नोडल व एडीएम सीएल मारकंडे ने बताया कि तहसीलवार आवेदनों के हिसाब से प्रकरण बन रहा है। एसडीएम और तहसीलदार अपने क्षेत्र के आवेदनों का प्रकरण बना रहे हैं। जल्द ही यह काम भी पूरा कर प्रकरणों को कलेक्टर को सौंपा जाएगा।

रकम वापसी की आस में लोग

राज्य सरकार ने चिटफंड में डूबे रूपये को पीड़ितों को वापस लौटाने के लिए आवेदन लिया है। इसको लेकर पीड़ित इसी आस में है कि उनके डूबे रूपये वापस मिल जाएंगे। लेकिन कब तक मिलेगा? इसमें अभी संशय है। क्योंकि जिले में तीन लाख से अधिक आवेदन आए हैं। जिसकी एंट्री कराने के बाद प्रशासन प्रकरण बनाने में लग गया है। प्रकरण बनने के बाद ही इसे शासन को भेजा जाएगा। इधर पीड़ित लोग रकम वापसी की आस में पंचायत व तहसील कार्यालय पहुंचकर जमा किए आवेदनों की जानकारी ले रहे हैं।

संपत्तियों की होगी जांच

चिटफंड मामले में प्रकरण बनाने के बाद जिला प्रशासन कंपनियों की संपत्ति की जांच भी करेगी। लेकिन इसमें अभी समय है। क्योंकि प्रकरण बनने के बाद ही इस पर काम होगा। जिले में करीब 993 लाख 37 हजार 990 रूपये लोगों का पैसा डूबा है। उक्त राशि की जानकारी प्रशासन ने शासन को भेज दी है। बताया गया कि प्रकरण बनाने के बाद तहसीलस्तर पर ही चिटफंड कंपनियों की संपत्ति की जांच होगी।

रद्दी की टोकरी में सैंकड़ों आवेदन

रकम वापसी की उम्मींद में तीन लाख से अधिक लोगों ने आवेदन जमा किया था। इसमें से तीन लाख 31 हजार 857 आवेदनों की ही एंट्री की गई है। खबर है कि सैंकड़ों आवेदनों में पूरी जानकारी नहीं थी। वहीं फार्म में नाम और पता भी सही था। ऐसे आवेदनों को एंट्री करने वाले कर्मचारियों ने रद्दी की टोकरी में डाल दिया है। विडंबना यह है कि कितने लोगों के आवेदनों निरस्त हुए हैं। इसकी जानकारी लोगों को नहीं है। ऐसे में लोग इस असमंजस में हैं कि उनके आवेदनों पर चिटफंड में डूबी राशि वापस होगी या नहीं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local