राजनांदगांव (नईदुनिया न्यूज)। महिला एवं बाल विकास विभाग व चाइल्ड लाइन 1098 परियोजना द्वारा भेड़ीकला के हाई स्कूल में अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया गया। कार्यक्रम में चाइल्ड लाइन टीम ने बताया कि प्रत्येक बालिकाओं को लड़के की तरह समान अधिकार प्राप्त है।

शासन के द्वारा बालिकाओं को आगे बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। वर्तमान में बालिका लड़को की तरह कदम से कदम मिलाकर आगे बढ़ रही हैं। बच्चों को चाइल्ड लाइन 1098 के बारे में संपूर्ण जानकारी दी गई जिसमें अनाथ, बेसहारा गुमशुदा भिक्षावृत्ति बाल मजदूर शोषित बच्चे एवं बाल विवाह से संबंधित कोई बच्चा परेशान हो तो चाइल्ड लाइन 1098 में फोन कर सकते हैं। टीम के द्वारा उपस्थित छात्राओं को सही स्पर्श एवं गलत स्पर्श की जानकारी दी गई। चाइल्ड लाइन के समन्वयक द्वारा अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस 11 अक्टूबर को मनाया जाता है ताकि बालिकाओं के सामने आने वाली चुनौतियों और उनके संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाई जा सके। बालिकाओं के अधिकारों व लैंगिक समानता जैसे विषयों पर जागरूकता कार्यक्रम चलाकर लोगों को जानकारी एवं जागरूक करने का प्रयास किया जा रहा है।

भेदभाव दूर करने दिया जोर

चाइल्ड लाइन की काउंसलर रूखमणी साहू ने बताया कि लड़कियों को जिन असमानता का सामना करना पड़ता है उनको दुनिया के सामने लाने और लोगों के बीच बराबरी का एहसास पैदा करना। लड़कियों के अधिकार शिक्षा, स्वास्थ्य और पोषण समेत कई अहम विषयों पर जागरूकता लाना है। लैंगिक भेदभाव बहुत बड़ी समस्या है। लड़कियों को शिक्षा और कानूनी और सम्मान जैसे मामले में असमानता को शिकार होना पड़ता है। टीम की सदस्य तेजस्विनी कश्यप द्वारा लैंगिक अपराधों द्वारा बालकों के संरक्षण अधिनियम 2012 के संबंध में जानकारी दी गई। इस दौरान मनोज चौहान, रश्मी खरे, कोमल प्रसाद साहू, आकाश देवांगन, राजेश्वरी महिलांगे, जया मिश्रा, रानू श्रीवास्तव, आदित्य तिवारी, जिनेंद्र गौतम व अन्य मौजूद रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local